आंखों के लिए कौन सा विटामिन जरूरी है? (Which Vitamin Is Necessary For The Eyes)

आंखों के लिए कौन सा विटामिन जरूरी है?

हम में से ज्यादातर लोग वेट लॉस के लिए या फिर खुद को बेहतर शेप में स्लिम-ट्रिम रखने के लिए तो डाइट का पूरा ध्यान रखते हैं। लेकिन हमारे शरीर के बाकी हिस्से जिसमें हमारी आंखें और दृष्टि सबसे महत्वपूर्ण है, हमारी आंखें बेहतर तरीके से काम कर सकें, इसके लिए उन्हें कई अलग-अलग तरह के विटामिन्स और पोषक तत्व की जरूरत होती है।

खासकर जब हमारी उम्र बढ़ने लगती है तो इस दौरान आंखों का ख्याल रखना और भी जरूरी हो जाता है। क्योंकि उम्र से जुड़ी कई तरह की बीमारियां हैं। जो हमारी आंखों पर बुरा असर डालती हैं जैसे – डायबिटीज की वजह से होने वाली डायबिटिक रेटिनोपैथी की समस्या, उम्र से जुड़ा मैक्युलर डीजेनेरेशन, मोतियाबिंद, ग्लूकोमा आदि। वैसे तो कई अलग-अलग फैक्टर्स हैं। जिनकी वजह से इस तरह की बीमारियां हो सकती हैं, लेकिन इनमें पोषण की भी अहम भूमिका होती है। आंखों के लिए कौन सा विटामिन जरूरी है।

ऐसे कई विटामिन हैं। जो हमारी आंखों की सेहत को बनाए रखने के लिए बेहद जरूरी माने जाते हैं। इसके अलावा कई एंटीऑक्सीडेंट भी हैं जो शरीर में मौजूद फ्री रैडिकल्स की वजह से होने वाले इन्फ्लामेशन और ऑक्सिडेटिव डैमेज के कारण आंखों को होने वाले नुकसान से सुरक्षित रखने में मदद करते हैं। अगर किसी खास तरह के विटामिन की शरीर में कमी हो जाए तो इसकी वजह से भी मोतियाबिंद और एज-रिलेटेड मैक्युलर डीजेनरेशन जैसी बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। कई रिसर्च में यह बात साबित भी हो चुकी है कि ऐसे कई विटामिन और मिनरल हैं जो इन बीमारियों से बचाने में मदद कर सकते हैं।

आंखों के लिए कौन सा विटामिन जरूरी है? (Which Vitamin Is Necessary For The Eyes)

आंखों का बाहरी आवरण जिसे कॉर्निया कहते हैं। उसे मेन्टेन रखकर हमारे विजन को क्लीयर बनाने में अहम भूमिका निभाता है। विटामिन ए (vitamin A) अगर व्यक्ति के शरीर में विटामिन ए की कमी हो जाए और समय पर इसका इलाज न हो तो जीरोफ्थैल्मिया (शुष्काक्षिपाक रोग) नाम की गंभीर बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है। जीरोफ्थैल्मिया, तेजी से बढ़ने वाली आंखों की बीमारी है जिसकी शुरुआत रतौंधी (नाइट ब्लांइनेस) से होती है। अगर विटामिन ए की कमी जारी रहे तो आंखों में मौजूद आंसू की थैली और आंखें सूखने का खतरा बढ़ जाता है।

कई रिसर्च में यह बात साबित हो चुकी है कि विटामिन ए से भरपूर डाइट का सेवन करने से मोतियाबिंद और एज-रिलेटेड मैक्युलर डीजेनेशन (एएमडी) जैसी बीमारियों के खतरे को कम किया जा सकता है। लिहाजा हमें अपनी डाइट में विटामिन ए से भरपूर चीजों को शामिल करना चाहिए और अगर शरीर में विटामिन ए की ज्यादा कमी हो जाए तो इसके लिए विटामिन ए (vitamin A) सप्लिमेंट्स का भी सेवन करने की सलाह दी जाती है।

आंखों के लिए कौन सा विटामिन जरूरी है? (Which Vitamin Is Necessary For The Eyes)

विटामिन A– यह आंखों के लिए सबसे महत्वपूर्ण विटामिन होता है। इसमें भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जो हमारी आंखों, हड्डियों और प्रतिरक्षा तंत्र के लिए काफी लाभदायक होते हैं। विटामिन ए (vitamin A) हमारी आंखों की ऊपरी परत कार्निया की सुरक्षा करती है तथा आंखों की रौशनी बढ़ाने में भी मददगार होती है। संतरे, पालक, धनिया की पत्ती, पुदीना, मेथी, कद्दू और गाजर आंखों के लिए पोषण प्रदान करने वाले आहार होते हैं।

विटामिन C– विटामिन सी (vitamin C) शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट्स का भरपूर भंडार होता है। यह रक्त प्रवाह को बेहतर बनाने के लिए जाना जाता है। रेटिना में रक्त का प्रवाह सुगम करने के लिए विटामिन सी का सेवन करना फायदेमंद होता है। कई तरह के अनुसंधान से यह बात प्रमाणित हो चुकी है कि विटामिन सी का सेवन मोतियाबिंद और अंधेपन को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। बंदगोभी, धनिया की पत्ती, शिमला मिर्च, हरी मिर्च, अमरूद और आंवला विटामिन सी के महत्वपूर्ण स्रोत होते हैं।

फोलिक एसिड – फोलिक एसिड नई कोशिकाओं का निर्माण करने में काफी लाभकारी होता है। इसकी कमी की वजह से एनीमिया होने की संभावना काफी बढ़ जाती है। साथ ही साथ आंखों से संबंधित नसों में विकार उत्पन्न होने का खतरा भी बढ़ जाता है। हरी पत्तेदार सब्जियां, पुदीना, पालक, अखरोट आदि फोलिक एसिड के महत्वपूर्ण स्रोत होते हैं।

आंखों की रोशनी तेज करने के लिए क्या क्या खाएं। (What To Eat To Improve Eyesight)

बादाम दूध: एक सप्‍ताह में कम से कम तीन बार, बादाम वाला दूध पीएं। इसमें विटामिन ई होता है जो आंखों के लिए फायदेमंद होता है। इसके सेवन से त्‍वचा में भी चमक आ जाती है। आप चाहें तो इस दूध में चुटकी भर काली मिर्च का पाउडर भी डाल सकती हैं। आखो की रोशनी कैसे बढ़ाए।

गाजर का जूस: सर्दियों के दिनों में गाजर बहुत अच्‍छी आती है। रोज मॉर्निंग मे गाजर का जूस पिये। उन दिनों गाजर का जूस निकाल दिन में एक बार पी लें। आप चाहें तो इसमें घिसा नारियल और 1 चम्‍मच शहद भी मिला लें, इससे जूस का स्‍वाद बहुत अच्‍छा हो जाता है।

सौंफ: मेंथी के दानों को रात भर भीगने के लिए रख दें। इसके बाद, अगली सुबह खाली पेट इसके पानी का सेवन कर लें।

आंवला दूध: इसे सुबह खाली पेट पीना चाहिए। इससे आंखों की रोशनी अच्‍छी हो जाती है और इससे वजन भी घटता है।

अरंडी का तेल : आंखों की रोशनी अच्‍छी करने के लिए अरंडी के तेल की एक-एक बूंद आंखों में डालें। अगर आंखों में खुजली हो तो इसका प्रयोग ना करें।

विटामिन E: मछली, बादाम, गाजर, अंडा, सूरजमूखी के बीज, पपीता, ये सभी विटामिन के स्‍त्रोत होते हैं। इनके सेवन से आंखें बहुत अच्‍छी रहती हैं। इनके सेवन की आदत डाल लें और अपनी दैनिक खुराक में इन्‍हे शामिल कर लें।

विटामिन A: अमरूद, संतरे, अनानास, लाल और हरी मिर्च और शिमला मिर्च में विटामिन ए काफी पर्याप्‍त मात्रा में होता है। इन्‍हे खाएं, ताकि आपकी आंखें हमेशा अच्‍छी रहें और कभी उन पर चश्‍मा न लगे। आखे कभी भी कमजोर नही पड़ सकती है।

विटामिन C: तरबूज, दूध, टमाटर, लैट्टस, अंगूर में विटामिन सी होता है जो आंखों को हमेशा कूल रखता है। इसलिए इनका सेवन भी आवश्‍यक होता है।

आंखों के लिए जिंक जरूरी है? (Zinc Is Essential For The Eyes)

जिंक एक ऐसा मिनरल है जो रेटिना, कोशिका झिल्ली और आंखों की प्रोटीन संरचना की सेहत को बनाए रखने में मदद करता है। जिंक की मदद से विटामिन ए, लिवर से रेटिना तक पहुंचता है ताकि मेलेनिन का उत्पादन हो सके। मेलेनिन एक ऐसा पिग्मेंट है जो यूवी लाइट से आंखों की रक्षा करता है।

अमेरिकन ऑप्टोमेट्रिक एसोसिएशन की मानें तो जिन लोगों को एएमडी (AMD) की बीमारी होती है या जिनमें इसका खतरा अधिक होता है उन्हें जिंक सप्लिमेंट का सेवन करना चाहिए। रोजाना करीब 40 सेस 80 एमजी जिंक को अगर कुछ निश्चित एंटीऑक्सिडेंट्स के साथ लिया जाए तो एएमडी बीमारी के बढ़ने का खतरा 25 प्रतिशत तक कम हो जाता है।

यह दर्स्ति हानि को भी 19 प्रतिशत तक कम कर सकता है। जिंक युक्त आहार सीफूड ऑयस्टर में सबसे अधिक जिंक होता है। इसके अलावा रेड मीट, पोल्ट्री, नट्स और सीड्स, बीन्स, साबुत अनाज, डेयरी उत्पाद आदि में भी जिंक की अच्छी खासी मात्रा पायी जाती है। आखो के लिए ज़िंक जरूरी है?

आखों के लिए लाभदायक फ्रूट्स क्या है? (What Are The Beneficial Fruits For The Eyes)

1. हरी पत्तेदार सब्जियां के सेवन से।

हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे  केल, पालक आदि विटामिन सी और ई से भरपूर होते हैं। इनमें कैरोटिनॉयड्स ल्यूटिन और ज़ेक्सैंथिन भी होता है। इतना ही नहीं, इनमें पाया जाने वाला विटामिन ए लंबे समय में आंखों को होने वाली कई तरह की बीमारियों जैसे एएमडी और मोतियाबिंद से बचाता है।

2. नट्स से रोशनी बढ़ाए। (Nuts)

बादाम, किशमिश और काजू-बादाम,किशमिश और काजू आंखों की रोशनी के लिए बहुत फायदेमंद होते है। क्योंकि इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड होता हैं। रोजाना ये सब खाने से आंखों की रोशनी के साथ-साथ दिमाग भी तेज होता हैं।

3. अंडे और मछली को डाइट बनाए।

अंडे में आंखों के लेंस को बचाने के लिए जरूरी पोषक तत्व-प्रोटीन और ग्लूटेथिओन होते हैं। ये आखों के लेंस के लिए एंटी ऑक्सीडेंट की तरह काम करते हैं। आंखों के रेटिना के लिए सबसे जरूरी होता है फैटी एसिड. मछली में भरपूर मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता हैं।

4. गाजर का सेवन करे।

गाजर में विटामिन ए और बीटा कैरोटीन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसमें मौजूद बीटा कैरोटीन के कारण ही गाजर का रंग नारंगी होता है। जैसा कि पहले भी बताया गया है। कि विटामिन ए आपकी आंखों को हेल्दी बनाने में मदद करता है। यह प्रोटीन का एक काम्पोनेन्ट है जिसे रोडोप्सिन कहा जाता है. यह रोडोप्सिन ही रेटिना को प्रकाश को अवशोषित करने में मदद करता है।

5. डेयरी प्रॉडक्ट से रोशनी बढ़ाए।

दूध और दही आंखों के लिए काफी अच्छे माने जाते हैं। इनमें विटामिन ए के साथ-साथ खनिज जिंक भी पाया जाता है।जहां, विटामिन ए कॉर्निया की रक्षा करता है वहीं, जिंक विटामिन ए को लीवर से आंखों तक पहुंचाने में मदद करता है।

मुझे उम्मीद है की आप को ये आर्टिकल जो की (hindigyanshala.com) आखो की रोशनी कैसे बढ़ाए पर था। जो की पसंद आया होगा। ऐसे ही नॉलेज पाने के लिए हमारे से जुड़े रहे और फेस्बूक पेज को लाइक करे। पोस्ट को शेयर करे।