हमारे जीवन में शिक्षक का क्या महत्व है (What is the importance of our life teacher)

किसी भी व्यक्ति के जीवन में शिक्षक उसके भविष्य का निर्माता होता है। वह अपने परिश्रम के माध्यम से किसी भी व्यक्ति के जीवन को सवार सत्ता है। शिक्षक एक माली की भांति होता है और हम पुष्प की भांति होते हैं, वहीं विद्यालय एक बगीचे के समान होता है। झांसी क्षक अपने परिश्रम के द्वारा उस छात्र रूपी फूल को अपने सानिध्य में बड़ा करता है और हमारे जीवन के प्रत्येक मोड़ पर कोई ना कोई शिक्षक की भूमिका निभाता है। वह चाहे माता-पिता हो या फिर हमें कठिन समय में मार्गदर्शन करने वाला कोई भी व्यक्ति हो सकता है।

हमारे जीवन में शिक्षक का स्थान (Teacher’s Place In Our Life)

हमारे जीवन का शिक्षक का बहुत ही बड़ा स्थान है। एक शिक्षक के लिए एक विद्यार्थी कोरे कागज की तरह होता है। जिसमें को किसी भी प्रकार से ढाल सकता है। एक शिक्षक के परिश्रम के द्वारा ही हममें से कई लोग वकील, डॉक्टर, अधिकारी या सैनिक या कोई वैज्ञानिक बनता है। शिक्षक हमेशा अपने अंदर की क्रोध और घृणा को किनारे कर सहनशीलता और अच्छे व्यवहार के माध्यम से हमारे जीवन में मार्गदर्शन करते हैं। शिक्षक को एक ईश्वर की भांति ही माना गया है। उसका पद हमेशा आदरणीय होता है। इसलिए हम इतना जरूर कर सकते हैं कि हम उनका सम्मान करें।

वास्तव में देखा जाए तो गुरु को ईश्वर के समान ही दर्जा प्राप्त रहता है। उनका स्थान सदैव आदरणीय ही रहेगा। प्राचीन काल में विद्यार्थी गुरुकुल से शिक्षा प्राप्त करके सभी प्रकार से सफल और परिपक्व होने के पश्चात गुरु दक्षिणा देकर गुरुकुल से लौटे थे। यह वही समय था जब इन विद्यार्थियों को वेद, शास्त्र पुराण, मानवीय मूल्य, सामाजिक जीवन का ज्ञान सिखाया जाता था। लेकिन समय के बदलने के साथ-साथ स्थिति में भी बदलाव आते गए। आज स्थिति बिल्कुल अलग है आज विद्यार्थी को केवल कुछ पाठ्यक्रम पर आधारित ज्ञान देकर परीक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात परिपक्व मान लिया जाता है। बाकी के कुछ नैतिक जीवन से संबंधित मूल्यों व अपने परिवार से भी सीखते हैं इस प्रकार माता-पिता भी उनके लिए एक शिक्षक के समान ही होते हैं।

शिक्षक बनने के लिए परिश्रम (Work Hard To Be A Teacher)

एक अच्छा शिक्षक बनने के लिए बहुत परिश्रम करनी पड़ती है। हमेशा अपने से बड़ों का आदर करो और उनकी हर बात मानो। माता-पिता की आज्ञा का पालन करना चाहिए और उनकी किसी भी बात को काटना नहीं चाहिए। माता-पिता और बड़ों का हमेशा सम्मान करना चाहिए। समाज के और अपनी शिक्षा के प्रति एकाग्रता को बढ़ाना चाहिए।

अपने शिक्षकों द्वारा दी जाने वाली शिक्षा को ग्रहण करना चाहिए और परीक्षा के परिणाम अच्छे और मेहनत से करने चाहिए। एक अच्छा शिक्षक बनने के लिए हृदय में एकता का भाव होना चाहिए। किसी भी व्यक्ति से भेदभाव नहीं करना चाहिए। हर किसी को एक नजर से देखना चाहिए और अपने से छोटों को हमेशा अच्छी बातें बताना चाहिए और सहपाठियों से हमेशा एकता बनाकर रखना चाहिए, अपने शिक्षकों से हमेशा प्रेरणा लेना चाहिए।

आदर्श अध्यापक के गुण (Qualities Of Ideal Teacher)

आज हमारे समाज ऐसे अनेक उदाहरण है जो अध्यापक की परिभाषा को पूर्ण करने में भूमिका अदा करते हैं। हिना द पार्क में अच्छे और श्रेष्ठ गुणों का भंडार होता है। या समय का सदुपयोग करते हैं इनके लिए समय अमूल्य होता है और इसलिए समय का पालन करते हुए अपना प्रत्येक कार्य योजना अनुसार करते हैं। यह समय का पालन करते हुए अपने प्रत्येक कार्य को अपने योजना अनुसार ही करते हैं। यह समय की उपयोगिता को ध्यान में रख कर के अपना ज्ञान प्रदान करते हैं। इनमें नम्रता और श्रद्धा के भाव भरे होते हैं। क्रोध और घृणा इनके लिए उचित नहीं होता, एक अच्छा शिक्षक में सहनशीलता, सही व्यवहार को अपनाकर के बच्चों को सही शिक्षा प्रदान कर उनका मार्गदर्शन करना होता है। यह उनके भविष्य को उज्जवल बनाते हैं उन्हें बेहतर इंसान बनाते हैं यह अनुशासन प्रयोग बनते हुए बच्चों को अनुशासन का महत्व सिखाते हैं।

अध्यापको की भूमिका और दायित्व (Role And Responsibilities Of Teachers)

अध्यापको के कुछ दायित्व हैं। जिन्हें उनको पूरी ईमानदारी के साथ निर्वहन करना चाहिए। यह आवश्यक हैं कि उन्हें सानिध्य में जो बच्चे पढ़ रहे है। जिनके जीवन मे वांछित परिवर्तन लाने का प्रयास करे। जिस से की वह देश के एक अच्छे नागरिक की भूमिका निभा सके। वैसे तो शिक्षक का मुख्य कार्य ज्ञान प्रदान करना होता हैं। परन्तु शिक्षक का यह दायित्व बनता हैं कि बालक का सर्वागीण विकास हो। परन्तु एक बेहतर शिक्षक हमारे जीवन मे शिक्षा के अलावा हमे हमारे जीवन को अनुशासित ढंग से जीना , शिष्टाचार का पालन करना, साथ ही साथ पीने सहपाठियों के साथ सकारात्मक व्यवहार एवम सहयोग की भावना जागृत करने में मदद करता हैं। वह हमें समाज के प्रति उदार दृष्टिकोण अपनाने के सलाह देता हैं। ताकि हम अपने सामाज के एक बेहतर नागरिक बन सके।

शिक्षक कैसे होने चाहिए? (How Should A Teacher Be)

उसमें प्रेरणा देने का ऐसा जज्बा हो कि एकदम उदासीन विद्यार्थी भी पढ़ने-लिखने को प्रेरित हो जाए। उसमें सादगी होनी चाहिए, ताकि विद्यार्थी सहजता से उससे घुलमिल सकें। वह विद्यार्थियों के मन को समझे और उनके प्रति हमदर्द हो। वह पेशेवर हो और पेशेवर नैतिकता का पालन करे।

वर्तमान समय में शिक्षक (Teacher At Present)

वैसे तो शिक्षक हमेशा से ही सर्वोपरि रहे हैं। आज भी वह सभी लोगों के लिए आदर्श और माननीय है। उनका महत्व इसी बात से पता चलता है कि वह बच्चों के लिए ऐसे पथ प्रदर्शक होते हैं जो अपने परिश्रम और तप से बच्चों के चरित्र का निर्माण करते हैं। वह बच्चों के प्रेरक है जो उन्हें कुछ कर दिखाने की प्रेरणा देते हैं। उनमें श्रद्धा और विवेक की अखंड ज्योति होती है जो चारों और अपने प्रकाश से उजियारा फैलाती है। यही बच्चों को राम, लक्ष्मण और महान पुरुषों से अवगत करा करके उनके गुणों से अवगत कराते हैं और उनमें ज्ञान का संचार करते हैं। यह अपने छात्रों को अपमानित ना करके बल्कि उचित अनुचित का निर्णय करना सिखाते हैं।

शिक्षक का महत्व हमारे जीवन मे कभी नही होगा कम।
चाहे जितनी जिंदगी में तरक्की कर ले हम।।
गुमनामी के जिंदगी से लाकर हमारी पहचान बना दिया।
आपकी कृपा से हमे एक अच्छा इंसान बना दिया।।

अच्छे शिक्षण की विशेषता क्या है? (What Are The Characteristics Of Good Teaching?)

अच्छा शिक्षण निदानात्मक, उपचारात्मक एवं मूल्यांकन कार्यों से संबंधित होता है। अच्छे शिक्षण में शिक्षक एवं छात्रों के बीच विचारों का आदान-प्रदान होता है। अच्छा शिक्षण छात्रों के सभी पक्षों के विकास को प्रभावित करता है। अच्छा शिक्षण छात्रों को संवेदनात्मक स्थिरता प्रदान करता है।

शिक्षक का महत्व (Importance Of Teacher In Hindi)

आज बस लोग शिक्षक दिवस पर भाषण देते है और शिक्षकों को भूल जाते है। सोशल मीडिया पर शिक्षकों के बारे में कुछ पोस्ट डालते है और भूल जाते है। लोग शिक्षकों से सीखने के बजाय उन्हें भूल जाते हैं।

स्कूल में छात्र शिक्षक दिवस के अवसर का खूब जश्न मनाते है और शिक्षकों का सम्मान करते है, बहुत अच्छी बात है पर इससे भी अच्छा शिक्षकों के पाठों का पालना करना। शिक्षकों को खुशी तब मिलती है जब एक छात्र अच्छा इंसान बन जाता है और अपने कैरियर और बिज़नस में सफल हो जाता है। वैसे सभी शिक्षक शिक्षा में समान नहीं है और सभी छात्र भी आधुनिक युग में शिष्य और गुरू की तरह नहीं है। जबकि कुछ शिक्षक महान होते है जो हमेशा अपने छात्रों के दिलों में रहते हैं।

छात्र सलाह और मार्गदर्शन के लिए शिक्षकों पर निर्भर रहते है। छात्र न केवल अकादमिक पाठों में बल्कि वे अपने जीवन के पाठों का पालन करने में भी रूचि रखते हैं की कैसे उन्हें जीवन में आगे निकलना है। यही कारण है की शिक्षकों के लिए छात्रों को अच्छी आदतों का पालन करने के लिए उत्साह करना बेहद जरूरी है। हर किसी के जीवन में शिक्षा जरूरी है क्योंकि शिक्षा जीवन के विभिन्न चरणों में विभिन्न भूमिका निभाती है। इसलिए यह जरूरी है की लोग शिक्षकों के महत्व को जानें और उनके सबक का पालन करें।

हमें जीवन के हर कदम पर शिक्षकों की जरूरत है। शिक्षक ने केवल छात्रों के लिए बल्कि समाज के लिए महत्वपूर्ण है। किसी भी बैठक और सामाजिक गतिविधियों में शिक्षकों की उपस्थिति नैतिकता को बढ़ावा देती है और समय को और अधिक मूल्यवान बनाती हैं। माँ-बाप भी शिक्षक कहलाते है जब उनके बच्चे वो बन जाते है जो उन्हें वे बनाना चाहते थे। शिक्षक ने केवल इंसान है बल्कि वे प्राकृतिक पौधों की तरह है। ऐसे ही एक नेता भी एक शिक्षक होता है क्योंकि वो सिखाता है की कैसे कंपनी का नेतृत्व करना हैं। शिक्षक हमें एक अच्छा इंसान बनने में मदद करते है। अच्छा इंसान समाज के विकास में योगदान दे सकता है। अच्छे लोगों के साथ एक विकसित समाज दूसरों को सफल और खुश होने में मदद करता हैं। इसलिए हमें स्कूलों में उन शिक्षकों की आवश्यकता है जो देश के भविष्य के बारे में सोचते है।

एक शिक्षक एक महान नेता बनने में मदद करता है और महान नेता एक महान राष्ट्र बनाता है। नेता एक व्यक्ति के व्यक्तिगत विकास में एक बाद भूमिका निभाता है। एक महान नेता हजारों लोगों को सही दिशा पर चलने के लिए प्रोत्साहित करता है। सभी अच्छे नेता इस बात से इंकार नहीं करेंगे की यह कौशल उन्होंने शिक्षकों से सिखा हैं। कुछ छात्र महान है ऐसा नहीं है की वे महानता के साथ पैदा हुए है। वे महान बने है क्योंकि शिक्षकों ने उन्हें आज बनने में मदद की है। यही कारण है की हमारे जीवन में शिक्षक महान इंसान है जो भविष्य के बारे में जानते हैं।

एक छात्र शिक्षकों के हाथों में गीली मिट्टी की तरह है जिसको वे कोई भी आकार दे सकते है। अगर एक छात्र को अच्छी तरह से पढ़ाया जाता है तो वह समाज के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण बन जाता है। अगर गलत सिखाया जाता है तो वो विनाश का हथियार बन सकता है। लेकिन सभी कॉलेजों और शिक्षकों को छात्रों के नैतिक मूल्यों को बढ़ाने में दिलचस्पी नहीं है। जिन कॉलेजों में शिक्षक छात्रों को सिर्फ पैसे के लिए शिक्षा दे रहे है। इस तरह के पैसों के प्रेमी शिक्षक छात्रों के कैरियर को गलत रास्ते पर चला रहे है। इस प्रकार के शिक्षक भ्रष्ट नेताओं, डॉक्टरों, नौकरशाहों का उत्पादन करते है।

इसलिए शिक्षक के महत्व को समझने के साथ साथ छात्रों के माता-पिता को यह भी ध्यान में रखना चाहिए की उन्हें अपने बच्चे को एक ऐसे स्कूल में सौंपना चाहिए जहाँ महान शिक्षक, पेशेवर, व्यक्तिगत और सामजिक व्यवहार वाले शिक्षक हों।यह भी जरूरी है की सभी शिक्षकों को सरकार की तरह से सामाजिक और आर्थिक मदद मिलनी चाहिए। क्योंकि अगर वे पैसे, खराब वित्तीय स्थितियों के बारे में चिंतित रहेंगे तो उनके लिए छात्रों को पढ़ाना मुश्किल हैं। इसलिए किसी भी राष्ट्र के लिए जरूरी है की वे शिक्षकों के लिए पर्याप्त सुविधाएँ और केंद्रित शैकक्षणिक विकास कार्य प्रदान करें।

आज हमें शिक्षकों का साम्मान और उनके प्रयास और योगदान की सराहना करने की आवश्यकता है। शिक्षकों को सरकार से सुरक्षा की जरूरत है। शिक्षको छात्रों को शिक्षित करने के लिए बुनियादी ढांचों की आवश्यकता है।

शिक्षक की लोकप्रियता का कारण (Reasons For Teacher’s Popularity)

एक शिक्षक हमें बिना किसी स्वार्थ के सफलता का रास्ता दिखाता है। शिक्षक एक अच्छे व्यवहार और नैतिक के व्यक्ति के लिए बहुत ही अच्छी तरह से विद्यार्थी को शिक्षित करता है। शिक्षक विद्यार्थी को अकादमी रूप से बेहतरीन बनाते हैं और जीवन में हमेशा अच्छा करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। एक शिक्षक कभी भी अपने अच्छे और बुरे विद्यार्थी में भेदभाव नहीं करता उसके लिए सभी विद्यार्थी एक समान होते हैं। एक शिक्षक अपने प्रयासों से कमजोर बच्चों को भी समझदार बना देता है और उसे प्रगति के मार्ग पर ले आता है। एक महान शिक्षक अपने विद्यार्थी को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने के लिए अपना पूरा जीवन व्यतीत कर देता है।

जो छात्र दूसरे छात्र से अलग होते हैं वह उन्हें अलग प्रकार से समझते हैं जिससे वह भी शिक्षा ग्रहण कर सके, एक शिक्षक निस्वार्थ भाव से अपने प्रत्येक छात्र को शिक्षा देता है और उसे अपने जीवन में प्रगति करने के योग्य बनाता है। अनेक समर्थ कार्य की तुलना किसी अन्य कार्य से नहीं की जा सकती है। एक अच्छा शिक्षक ही अपने सभी विद्यार्थियों का ध्यान रखता है। एक अच्छा शिक्षक अपने विद्यार्थी के खाने की आदत, स्वच्छता का स्तर, दूसरों से व्यवहार और पढ़ाई लिखाई की ओर एकाग्रता के बारे में जानता है। शिक्षक कभी भी अपने धैर्य नहीं होता और हर विद्यार्थी को उसके अनुसार पढ़ाता है। एक शिक्षक हमेशा अपने विद्यार्थी को अच्छी और ज्ञान पूर्ण बातें ही बताता है।

शिष्य वही जो सीख ले, गुरु का ज्ञान अगाध,
भक्तिभाव मन में रखे, चलता चले अबाध।

गुरु ग्रंथन का सार है, गुरु है प्रभु का नाम,
गुरु अध्यात्म की ज्योति है, गुरु हैं चारों धाम।

जीवन में विजय और सफलता प्राप्त करने के लिए शिक्षा एक बड़ी क्षति होती है इसीलिए देश के भविष्य को और युवाओं के जीवन की जिम्मेवारी शिक्षक को दी जाती है। एक शिक्षक ही बच्चों को बचपन से सामाजिक, मानसिक और बौद्धिक रूप से का काबिल बनाता है।