SSL क्या है, कैसे काम करता है?

what is ssl

SSL का फुलफॉर्म है सिक्योर सॉकेट्स लेयर, SSL वन एन्क्रिप्शन प्रोटोकॉल है जो इंटरनेट में इस्तेमाल किया जाता है। ये प्रोटोकॉल इंटरनेट ब्राउज़र और वेबसाइटों के बिच एक सुरक्षित संपर्क प्रदान करता है जो इंटरनेट उपयोगकर्ताओं को अनुमति देता है की वो अपने निजी डेटा को दुसरे वेबसाइट के साथ अदला बदली सुरक्षित रूप से कर सकते हैं। आज के वक़्त में लगभग सभी वेबसाइट SSL का उपयोग कर रहे हैं। एसएसएल प्रोटोकॉल करोड़ो ऑनलाइन व्यापार करने वाले लोग इसलिए इस्तेमाल कर रहे हैं ताकि वह अपने ग्राहकों और उनके द्वारा किए जा रहे ऑनलाइन लेनदेन को संरक्षित कर सके और इसका इस्तेमाल से हैकर के लिए नामुमकिन होगा कि वो उस संपर्क के बिच से ग्राहक का डेटा चुरा सके।

जो वेबसाइट SSL का इस्तेमाल करते हैं उनका डोमेन नाम जो होता है (जैसे www.HindiGyanShala.com) उसके साथ एक बंद तस्वीर का चित्र जुड़ा हुआ होता है जो की हमारे इंटरनेट ब्राउज़र के url में दीखता है और http के स्थान https लिखा रहता है। डोमेन नाम के साथ, इससे पता चलता है की वह वेबसाइट पूरी तरह से सुरक्षित है। अगर कोई उपयोगकर्ता उस टैट चित्र के ऊपर क्लिक करे जो की पता बार में दिखाई देता है तो वहाँ से जिस वेबसाइट को उपयोगकर्ता देख रहा है वह वेबसाइट का SSL प्रमाणीकरण, पहचान और बेबीक जानकारी उपयोगकर्ता को दिखा देता है। हर वेबसाइट का एक विशिष्ट SSL प्रमाणपत्र होता है।

SSL के साथ: https://yoursite.com
SSL के बिना: http://yoursite.com

SSL को TLS (ट्रांसपोर्ट लेयर सिक्योरिटी) प्रोटोकॉल भी कहा जाता है। इसका इस्तेमाल सिर्फ वेबसाइट में ही नहीं बल्कि ई-मेल में और बाकि सभी जगह में इस्तेमाल किया जा सकता है। अगर कोई व्यक्ति ई-कॉमर्स साइट चला रहा है तो उसे SSL का इस्तेमाल करना बहुत जरुरी है क्यूंकि इस साइट में ग्राहक से भुगतान करने के लिए उनका सारा इनफॉर्मेशन लिया जाता है।

SSL काम कैसे करता है?(How does ssl work)

जब हमें किसी विषय के बारे में कुछ जानना होता है या कुछ खरीदना होता है तो हम अपने वेब ब्राउज़र में किसी वेबसाइट का नाम लिखते हैं। उसके बाद वेब ब्राउज़र उस वेबसाइट के सर्वर के साथ जुड़ता है जो की एसएसएल प्रोटोकॉल का इस्तेमाल कर रहा है। उपयोगकर्ता अपने ब्राउज़र से उस वेबसाइट के सर्वर को अनुरोध करता है की वह अपनी पहचान दे। अनुरोध देने के बाद वेब सर्वर अपने एसएसएल प्रमाणपत्र का कॉपी के साथ एक सार्वजनिक कुंजी ब्राउज़र में भेज देता है। उसके बाद उपयोगकर्ता उस प्रमाणपत्र को जाँच करता है जिससे उसकी उपयोगकर्ता ये तय कर सके की वह उस वेबसाइट के साथ अपने प्राथमिक डेटा को साझा करने के लिए उस पर भरोसा कर सकता है या नहीं। जाँच कर लेने के बाद जब उपयोगकर्ता उस पर भरोसा करने का फैसला कर लेता है तो फिर से वो उसके सर्वर को एक एन्क्रिप्टेड संदेश भेज देता है।

वेब सर्वर जो एन्क्रिप्ट संदेश को डिक्रिप्ट करता है, उसके बाद वह ब्राउज़र को स्वीकार करने के बाद उपयोगकर्ता के साथ SSL एन्क्रिप्शन शुरू किया जाता है, उसके बाद उपयोगकर्ता का मुख्य डेटा ब्राउज़र और वेब सर्वर के बिच अदला बदली सुरक्षित तरीके से होता है जो पूरी तरह से है गोपनीय रहता है।

SSL के प्रकार क्या क्या है?(What is the type of ssl)

1. वाइल्डकार्ड एसएसएल प्रमाणपत्र
यह एसएसएल सर्टिफिकेट की मदद से आप अपने डोमेन और पूरे उप-डोमेन को सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं। यहाँ आपको डोमेन और संगठन का सत्यापन मिलता है।

2. मल्टी-डोमेन (सैन) एसएसएल सर्टिफिकेट
एक मल्टी-डोमेन एसएसएल मदद से आप 250 डोमेन को सुरक्षितित रख सकते हैं। यह आपको डोमेन सत्यापन, संगठन सत्यापन और विस्तारित मान्यता प्राप्त है।

3. ईवी एसएसएल सर्टिफिकेट
यह SSL आपके व्यवसाय के लिए बनाया गया है जो वेब ब्राउज़र के पते बार को ग्रीन करने के साथ साथ आपके व्यवसाय का नाम भी दिखता है। यह एक अत्यधिक मान्यता प्राप्त और एन्क्रिप्टेड एसएसएल प्रमाणपत्र है।

4. डोमेन SSL मान्य है
ज्यादातर ब्लॉगर और छोटे मोटे वेबसाइट इसे इस्तिमाल करते हैं। ये मध्यम लेवल की सुरक्ष्या प्रदान करता है।

5. संगठन मान्यता एसएसएल
यह ऑनलाइन कारोबार को सत्यापित करता है और सुरक्ष्या प्रदान करने के लिए इस्तिमाल किया जाता है। इससे कॉस्ट्यूमर को ये पता चलता है कि वह एक सुरक्षित और सत्यापित वेबसाइट को विजिट कर रही है।

6. कोड हस्ताक्षर प्रमाण पत्र
आप इसकी मदद से अपने सॉफ्टवेर के कोड को सुरक्षितित रख सकते हैं। इसके साथ साथ ये आपकी फ़ाइलें और एप्लिकेशन को भी सुरक्ष्या प्रदान करता है।

SSL कहाँ से खरीदें (Where to buy ssl)

SSL का सेवा बहुत सारी बड़ी कंपनियाँ प्रदान करती हैं जो उनमे से कुछ के नाम हैं- GoDaddy, BigRock, HostGator आदि जब हम अपनी वेबसाइट के लिए होस्टिंग सर्वर खरीदते हैं तो हमे वह होस्टिंग कंपनी भी SSL सेवा प्रदान करती हैं जहाँ हम होस्टिंग खरीद रहे हैं साथ अपनी वेबसाइट के लिए एसएसएल प्रमाणपत्र भी खरीद सकते हैं जो हमारी वेबसाइट को सुरक्षित हैं।

दिए गए कंपनियों से अगर हम SSL प्रमाणपत्र खरीदते हैं तो हमें उसकी दी गई राशि को भरना होगा तभी हम उसका भरपूर लाभ उठा पाएंगे। लेकिन ऐसे भी बहुत से कंपनियां हैं जो SSL की सेवाएं मुफ्त में प्रदान करती हैं। उनमे से एक का नाम हैं Let’s Encrypt, ये इंटरनेट रिसर्च ग्रुप का एक प्रोजेक्ट है, जो मुफ्त में SSL प्रमाणपत्र आम लोगों को प्रदान करता है।

SHARE