NEFT क्या है और पैसे कैसे भेजे?

what is NEFT in hindi

NEFT का फुल फॉर्म होता है राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स फंड ट्रांसफर या इसे हिंदी में “राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक निधि अंतरण” भी कहा जाता है। ये एक देशव्यापी इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर सिस्टम है जिससे पैसे को एक बैंक खाते से दुसरे बैंक खाते में आसानी से और सुरक्षित रूप से भेजा या प्राप्त किया जाता है। सभी एनईएफटी बस्तियों को बैच-वार प्रारूप में संचालित किया जाता है। इसमें पैसों को इस प्रणाली के माध्यम से पुरे भारतवर्ष में सभी NEFT- सक्षम बैंकों में व्यक्तिगत आधार में भेजा जाता है। कोई भी एनईएफटी हस्तांतरण को शुरू करने से पहले बैंक का आईएफएससी कोड बहुत जरुरी है, इसके साथ दुसरे विवरण जैसे की बैंक खाता संख्या, बैंक शाखा, खाता धारक का का होना भी बहुत जरुरी होता है।

इस फण्ड ट्रान्सफर की प्रणाली को आरबीई (आरबीआई) के द्वारा संचालित किया जाता है। जिसकी शुरुआत सन 2005 से हुई थी। NEFT भारत में बैंक के ग्राहकों को ये सुविधा प्रदान करता है जिससे की बैंक का ग्राहक बहुत ही सहजता से किसी दूसरे NEFT सक्षम बैंक खाते को अपनी पूंजी हस्तांतरण कर सकता है। ये बहुत सुरक्षित भी होता है।

NEFT प्रणाली के जरिए फंड ट्रांसफर के वास्तविक समय के आधार पर नहीं होते हैं, बल्कि NEFT सप्ताह के पहले, तीसरे और तीसरे शनिवार को सुबह 8:00 बजे से लेकर शाम 7:30 बजे के दौरान होने वाले 23 सेटलमेंट के साथ आधे घंटे की बॉडी ( बैच) में पैसों का हस्तांतरण तय किया जाता है। इसके अलावा महीने के दूसरे और चौथे शनिवार को, रविवार को या सार्वजनिक छुट्टियों के दिन भी कोई सेटलमेंट (निपटान) नहीं होता है।

NEFT की सुविधा मुख्य रूप से दो प्रकार किया जाता है एक है ऑफलाइन मोड जो की बैंकों की शाखाओं में किया जाता है और दूसरा है ऑनलाइन मोड जिसे ऑनलाइन बैंकिंग द्वारा ग्राहकों को उपलब्ध है और बार में की जाती है। एनईएफटी के द्वारा होने वाले समय की बचत और आसान प्रक्रिया के कारण से यह बहुत लोकप्रिय है क्योंकि इसमें लेनदेन को ऑनलाइन बैंकिंग द्वारा बहुत आसानी से किया जा सकता है। देखा जाए तो NEFT दुसरे उपायों जैसे RTGS और IMPS से थोडा भिन्न है। जहाँ भी RTGS और IMPS में आपका भेजा गया पैसा तुरंत सामने वाले के बैंक खाते में क्रेडिट हो जाता है।

NEFT के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया:

चरण 1: सबसे पहले अपने नेट बैंकिंग खाते पर लॉगिन करें। अगर आपके पास नेट बैंकिंग खाता है तो आप उसे अपने बैंक की वेबसाइट के माध्यम से रजिस्टर भी कर सकते हैं।
चरण 2: उसके बाद आपको लाभार्थी को भुगतान करने के हिसाब से जोड़ना होगा। यहां लाभार्थी का मतलब है कि वह जिसको आप पैसे हस्तांतरण करना चाहते हैं। और ऐसा करने के लिए आपको लाभार्थी के कुछ विवरण भी भरने होंगे Pay नया भुगतान करने वाला अनुभाग जोड़ें, जो की हैं:

    • खाता संख्या।
    • नाम।
    • IFSC कोड।
    • खाते का प्रकार।

चरण 3: एक बार भुगतान करने वाला जोड़ने के बाद उसके बाद आपको NEFT को फंड ट्रांसफर मोड के हिसाब से चुनना होगा।
चरण 4: अब आप खाते का चयन करते हैं, जहां आप के पैसे हस्तांतरण करने हैं, यहां आपको भुगतानकर्ता चयन करना है, उसके बाद राशि दर्ज करना है जैसा कि आप चाहते हैं कि हस्तांतरण करें और फिर टिप्पणियाँ (वैकल्पिक) जोड़ें।
चरण 5: फिर से भेजें के ऊपर क्लिक करें होता है।

NEFT के लिए ऑफलाइन प्रक्रिया:

चरण 1: सबसे पहले बैंक को भेंट।
चरण 2: वहां एनईएफटी / आरटीजीएस फॉर्म भरें। उसके बाद ये निम्नलिखित अपने लाभार्थी के विषय में विवरण प्रस्तुत करते हैं।

    • नाम।
    • खाता संख्या।
    • बैंक का नाम।
    • डाली।
    • IFSC कोड।
    • खाते का प्रकार।
    • खाता संख्या।
    • आपके स्थानांतरण राशि के अनुसार राशि है।

चरण 3: उसके बाद अपने भरे हुए फॉर्म को जमा करना होगा जो जो आगे है वह कर सकता है धन हस्तांतरण करने के लिए।

NEFT कैसे काम करता है? (How does NEFT work?)

1. जैसे की मैंने आपको पहले ही बताया है की कैसे आपको ऑनलाइन या ऑफलाइन मोड के माध्यम से फॉर्म को विवरण में भरना होता है, लाभार्थी के विषय में पूरी जानकरी प्रदान करनी होती हैं। इसके साथ कैसे बैंक उसे अधिकृत करने की आगे की प्रक्रिया करते हैं।

2. इसके उपरांत आपके बैंक एक संदेश जारी करते हैं और फिर उसे उनके NEFT सेवा केंद्र को भेज देते हैं।

3. एनईएफटी इस संदेश को अग्रेषित करता है कि आपके बैंक से एनईएफटी क्लियरिंग सेंटर तक जो की नेशनल क्लियरिंग सेल के द्वारा संचालित किया जाता है और इसके साथ यह एक हिस्सा रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया का मुंबई में है और उसे ये शामिल करना देता है अगले उपलब्ध है लेन-देन की शाखा।

4. इसके बाद एनईएफटी क्लियरिंग सेंटर से सभी फंड ट्रांसफर ट्रांजेक्शन को सॉर्ट करता है, उसके बैंकों के हिसाब से और उन प्रविष्टियों को कुछ इस प्रॉपर से सजाता है, जिससे किस बैंक पर आपके पैसे जाने होते हैं वे बिलकुल आसानी से सॉर्ट हो जाते हैं। एनईएफटी सेवा केंद्र उसके बाद के संदेश पाते हैं कि जहाँ भी उनकी सारी प्रविष्टियाँ मिलती हैं, उसके साथ उन्हें एनईएफटी क्लियरिंग सेंटर से भी पैसों के विषय में संदेश मिलते हैं, जहाँ उन्हें फंड को रिसीवर के खाते पर पैसे भेजने का निर्देश होता है।

NEFT लेनदेन की टाइमिंग:

यदि अभी तक के समय की बात करें तो NEFT प्रति घंटा बैचों में काम करता है इसलिए ये सेवा केंद्र परिचालन घंटे के बिच काम करते हैं जो की है (8:00 AM से 7:00 PM सामान्य सप्ताह के दिनों में और सुबह 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक) में)। इसके साथ 8 से 6 बैच होते हैं एक के बाद एक काम करने के लिए। इसलिए पैसों को हस्तांतरण किया जाता है सोमवार से शनिवार तक (बस महीने के दूसरे और चौथे शनिवार को छोड़कर) 8:00 पूर्वाह्न से 6:30 बजे तक। इसके अलावा एनईएफटी लेनदेन सार्वजनिक और बैंक छुट्टियों में भी कार्य नहीं हो पाता है।

NEFT के माध्यम से कौन धनराशि स्थानांतरित कर सकता है?

कोई भी फर्म, अलग-अलग, निगम NEFT का इस्तमाल कर सकता है एक बैंक खाता से किसी दूसरे बैंक खाते को फंड ट्रांसफर करने के लिए लेकिन ध्यान देने वाली बात यह है कि उसकी उस बैंक शाखा में बैंक खाता होना चाहिए और उस बैंक शाखा में NEFT सुविधा भी सक्षम / उपलब्ध होनी चाहिए।

इसके अलावा ये भी जानें कि आपके पास बैंक खाता का होना अनिवार्य नहीं है। यदि किसी का बैंक शाखा में बैंक खाता न भी हो और तब भी यदि वह NEFT के द्वारा फंड ट्रांसफर करना चाहता है तो NEFT इंस्ट्रक्शन स्लिप को भरें द्वारा फंड ट्रांसफर किया जा सकता है। लेकिन NEFT के द्वारा इस प्रकार से फंड ट्रांसफर करने के लिए एक ट्रांजैक्शन में अधिकतम 50,0000 फॉर्मए तक का अमाउंट ट्रांसफर किया जा सकता है।

NEFT के द्वारा कौन फंड रिसीव कर सकता है?

ये काम ऐसे व्यक्ति, फर्म, निगम जिनके बैंक शाखा में बैंक खाता हो तो वे सभी NEFT के द्वारा भेजे गए फंड को प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए लाभार्थी ग्राहक का बैंक शाखा में बैंक खाता होना अनिवार्य है जिसमें NEFT सुविधा सक्षम / उपलब्ध हो।

टॉप बैंक जो NEFT सुविधा उपलब्ध हैं?

    • ICICI NEFT
    • SBI NEFT
    • Central Bank of India NEFT
    • Bank of Baroda NEFT
    • HDFC NEFT
    • Axis Bank NEFT
    • Punjab National Bank (PNB) NEFT
    • Union Bank of India NEFT
    • Indian Overseas Bank (IOB) NEFT
    • Syndicate Bank NEFT

NEFT के क्या फायदे हैं? (What are the benefits of NEFT)

    • NEFT के माध्यम से कोई भी फर्म, व्यक्तिगत, निगम इत्यादि बड़े आराम से पैसे एक खाते से दुसरे खाते तक भेज सकते हैं।
    • यहाँ पर लाभार्थी ग्राहक (जिसे पैसे भेजे जाते हैं) को निधि प्राप्त करने के लिए बैंक शाखा में जाने की आवश्य कता नहीं होती है और न ही किसी प्रकार के कागज औपचारिकताओं को पड़ती है।
    • NEFT में फीस बहुत कम होती है।
    • इंटरनेट बैंकिंग का इस्तमाल करके कहीं से भी, और कभी भी फंड ट्रांसफर किया जा सकता है। ये बहुत ही सुरक्षित और सुरक्षित होते हैं। और यदि कभी किसी कारणवश आपका लेन-देन पूरा नहीं हो पाता है तो ऐसे में आपको घबराने की आवश्यकता नहीं है क्यूंकि ऐसे में आपका पैसा कहीं खो नहीं जाता है बल्कि प्रेषित खाते पर भी वापस चला जाता है।
    • ये लो वैल्यू ट्रांजेक्शन के लिए बहुत उपयोगी होता है। यहाँ पर प्राप्तकर्ता को कोई भी अतिरिक्त लागत नहीं देना पड़ता है।
    • यहाँ प्रत्येक बैच एक घंटे का होता है।
SHARE