माइक्रोसॉफ्ट विजुअल स्टूडियो क्या है? पूरी जानकारी।

माइक्रोसॉफ्ट विजुअल स्टूडियो क्या है पूरी जानकारी।

तो दोस्तो आप जब भी आप डॉट नेट सीखने जाते हैं तो सबसे पहला काम जो आपसे करवाया जाता है वह है कि विजुअल स्टूडियो इंस्टॉल करना। यदि आपको पता नहीं है कि विजुअल स्टूडियो क्या है और उसको सही तरीके से कैसे इंस्टॉल करते हैं तो इनस्टॉल करने पर विजुअल स्टूडियो आपके सिस्टम के बहुत सारे स्पेस को कवर कर सकता है। कंप्यूटर चलाते वक्त जिसकी वजह से आपका सिस्टम धीमा हो जाता है। अगर आप ढंग सही तरीके से विजुअल स्टूडियो इंस्टॉल करेंगे तो आपका सिस्टम स्लो नहीं होगा।

दोस्तों आज के इस लेख में हम इसी विजुअल स्टूडियो से संबंधित विषयों के बारे में जानेंगे। जैसे विजुअल स्टूडियो क्या है,विजुअल स्टूडियो का संक्षिप्त इतिहास, विजुअल स्टूडियो का उपयोग तथा विजुअल स्टूडियो के फीचर्स और डाउनलोड कैसे करे।

विजुअल स्टूडियो क्या है? (What is Visual Studio)

माइक्रोसॉफ्ट का एक एकीकृत विकास वातावरण (IDE) है। इसका प्रयोग विण्डोज़ फॉर्म अनुप्रयोगों, वेब साइटों, वेब अनुप्रयोगों और वेब सेवाओं के साथ ही कन्सोल और ग्राफिकल यूज़र इन्टरफेस अनुप्रयोगों को विकसित करने के लिये नेटिव कोड और प्रबंधित कोड दोनों के साथ माइक्रोसॉफ्ट विण्डोज़, विण्डोज़ मोबाइल, विण्डोज़ CE, .NET फ्रेमवर्क .NET कॉम्पैक्ट फ्रेमवर्क और माइक्रोसॉफ्ट सिल्वरलाइट द्वारा समर्थित सभी प्लेटफॉर्मों के लिये किया जा सकता है।

विजुअल स्टूडियो एक इंटीग्रेटेड डेवलपमेंट प्रोग्राम है जिसे हम सिम्पल भाषा मे IDE कहते है। जो कि माइक्रोसॉफ्ट द्वारा डिवेलप किया गया है। जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर सॉफ्टवेयर प्रोग्राम आदि को बनाने में किया जाता है। विजुअल स्टूडियो की मदद से हम सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट तो कर ही सकते हैं, इसके साथ-साथ Website, Mobile Application आदि भी बना सकते हैं।

माइक्रोसॉफ्ट विजुअल स्टूडियो माइक्रोसॉफ्ट द्वारा डिवेलप की गई प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में प्रोग्राम बनाते समय मदद करता है।  और डेवलपर को एक अच्छा प्रोग्रामिंग वातावरण प्रदान करता है। विजुअल स्टूडियो में कई ऐसे टूल्स होते हैं जो हमें प्रोग्राम बनाते समय मदद करते हैं। विजुअल स्टूडियो की मदद से हम प्रोग्रामिंग तो कर ही सकते हैं साथ ही साथ ग्राफिकल यूजर इंटरफेस एप्लीकेशन भी बना सकते हैं।

विजुअल स्टूडियो डॉट नेट की सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेजों के लिए कॉमन इंटीग्रेटेड डेवलपमेंट प्रोग्राम है। माइक्रोसॉफ्ट विजुअल स्टूडियो Windows, iOS तथा MacBook ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए उपलब्ध है। विजुअल स्टूडियो लगभग 36 अलग-अलग तरह की प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सपोर्ट करता है जिसमें यूजर, कोड एडिटर और एडिटर फीचर का उपयोग कर सकता है। अब आपको पूरी तरह पता चल गया होगा कि विजुअल स्टूडियो क्या है।

विजुअल स्टूडियो की विशेषताएं (Features of Visual Studio)
1- कोड एडीटर (Code editor)

तो दोस्तो कोड़े एडिटर भी किसी भी अन्य (IDE) की तरह विजुअल स्टूडियो में भी एक कोड संपादक शामिल होता है, जिसमें इंटेलीजेंस का प्रयोग करके न केवल Variables, Functions और Methods के लिये, बल्कि भाषा के निर्माण खण्डों, जैसे loops और Queries, के लिये भी सिन्टैक्स हाइलाइटिंग और कोड पूर्णता के लिये समर्थन शामिल होता है।इसमें शामिल की गई भाषाओं और साथ ही XML के लिये और वेब साइटों तथा वेब अनुप्रयोगों का विकास करते समय कास्केडिंग स्टाइल शीट और जावास्क्रिप्ट के लिये भी इन्टेलीसेन्स का समर्थन प्रदान किया जाता है।ऑटोकम्पलीट सुझाव एक मोडविहीन लिस्ट बॉक्स में पॉप-अप होते हैं, जो कि कोड एडीटर के शीर्ष पर अच्छादित होता है। विजुअल स्टूडियो 2008 और इससे बाद वाले संस्करणों में इसे अस्थाई रूप से अर्ध-पारदर्शी बनाया जा सकता है, ताकि इसके द्वारा बाधित कोड को देखा जा सके। कोड संपादक का प्रयोग सभी समर्थित भाषाओं के लिये किया जा सकता है।

विजुअल स्टूडियो कोड संपादक शीघ्र संचालन के लिये कोड में बुकमार्क रितेश सेट करने का भी समर्थन करता है। अन्य संचालनात्मक सहायताओं में सामान्य टेक्स्ट खोज और रेगेक्स खोज के साथ ही कोड ब्लॉक्स और वृद्धिशील खोज शामिल होते हैं। कोड संपादक में एक बहु-वस्तु क्लिपबोर्ड और एक कार्य-सूची भी शामिल होती है। कोड संपादक कोड-खण्डों का भी समर्थन करता है, जो दोहरावपूर्ण कोड के लिये संचित टेम्पलेट होते हैं और जिस परियोजना पर कार्य किया जा रहा हो, उसमें इन्हें प्रविष्ट और कस्टमाइज़ किया जा सकता है। कोड खण्डों के लिये एक प्रबंधन उपकरण भी अंतर्निर्मित होता है। ये उपकरण तैरती हुई विण्डोज़ के रूप में प्रदर्शित होते हैं, जिन्हें प्रयोग न किये जाने या स्क्रीन के बाजू में रख दिये जाने पर स्वचालित रूप से छिप जाने हेतु सेट किया जा सकता है। विजुअल स्टूडियो का कोड संपादक पैरामीटर रिकॉर्डिंग, वेरियेबल और मेथड पुनर्नामकरण, इन्टरफेस उद्धरण और प्रापर्टीज़ के भीतर क्लास के सदस्यों के एन्जेन्सी सहित अन्य कोड रिफैक्टरिंग का समर्थन भी करता है।

विजुअल स्टूडियो बैकग्राउण्ड कम्पाइलेशन जिसे वृद्धिशील कम्पाइलेशन भी कहा जाता है। का समर्थन करता है। जब कोड लिखा जा रहा हो, तो विजुअल स्टूडियो इसे पृष्ठभूमि में कम्पाइल करता है ताकि सिन्टैक्स और कम्पाइलेशन त्रुटियों, जिन्हें लाल लहरदार रेखांकन के द्वारा चिह्नित किया जाता है, के बारे में फीडबैक दिया जा सके। चेतावनियों को एक हरी रेखांकन के द्वारा चिह्नित किया जाता है। बैकग्राउण्ड कम्पाइलेशन क्रियान्वयन-योग्य कोड उत्पन्न नहीं करता क्योंकि इसके लिये क्रियान्वयन-योग्य कोड के लिये प्रयुक्त कम्पाइलर से भिन्न एक कम्पाइलर की आवश्यकता होती है।

2 – तानाना (Extensibility)

तो दोस्तो जिस प्रकार हम ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर में उसके सोर्स कोड के साथ कुछ छेड़छाड़ करके या कुछ परिवर्तन करके उसे हम एक नया रूप दे सकते हैं। और उसकी क्षमता भी बढ़ा सकते हैं। ठीक उसी प्रकार विजुअल स्टूडियो भी प्रोग्रामस को यह अनुमति देता है कि वह उसकी क्षमता को बढ़ा सकें डेवलपर्स विजुअल स्टूडियो में एक्सटेंशन राइट कर सकते हैं। इस प्रकार के फीचर्स विजुअल स्टूडियो की प्रासंगिकता और उसके कार्य क्षेत्र को बनाते हैं।

3 – डीबगर (Debugger)

विजुअल स्टूडियो में एक डीबगर शामिल होता है, जो स्रोत-स्तरीय डीबगर और मशीन-स्तरीय डीबगर दोनों के रूप में कार्य कर सकता है। यह प्रबंधित कोड और मूल कोड दोनों के साथ कार्य करता है और इसका प्रयोग विजुअल स्टूडियो द्वारा समर्थित किसी भी भाषा में लिखे अनुप्रयोगों की डीबगिंग के लिये किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त, इसे वर्तमान में क्रियान्वित हो रही प्रक्रियाओं के साथ जोड़ा जा सकता है, ताकि इनका निरीक्षण करके इन्हें डीबग किया जा सके। यदि क्रियान्वित हो रही प्रक्रिया के लिये स्रोत कोड उपलब्ध हो, तो क्रियान्वयन के साथ ही यह कोड को प्रदर्शित करता है। यदि स्रोत कोड उपलब्ध न हो, तो यह डिसअसेम्बली को प्रदर्शित कर सकता है। विजुअल स्टूडियो डीबगर अनेक मेमोरी डम्प बना सकता है और साथ ही उन्हें बाद में डीबगिंग के लिये लोड भी कर सकता है। बहु-सूत्रित प्रोग्राम्स का समर्थन भी किया जाता है। डीबगर को विजुअल स्टूडियो के बाहर क्रियान्वित हो रहे किसी अनुप्रयोग के विफल होने पर प्रारंभ किये जाने के लिये भी विन्यासित किया जा सकता है।

विज़ुअल स्टूडियो में डेटा टूलटिप्स डीबगर ब्रेकपॉइन्ट्स जो किसी विशिष्ट बिंदु पर क्रियान्वयन को अस्थाई रूप से रोकने की अनुमति देते हैं। और वॉचेस जो क्रियान्वयन की प्रगति के साथ वेरियेबल्स के मानों का निरीक्षण करते हैं को सेट करने की भी अनुमति देता है। ब्रेकपॉइन्ट्स शर्त पर आधारित हो सकते हैं, जिसका अर्थ है कि वे उस समय प्रारंभ होते हैं, जब कोई शर्त पूर्ण होती है। कोड को एक बार में एक पंक्ति पर आगे बढ़ाया जा सकता है। यह फंक्शन्स को डीबग करने के लिये इनके भीतर प्रविष्ट हो सकता है या यदि मानवीय निरीक्षण के लिये फंक्शन बॉडी उपलब्ध न हो, तो वह इसे छोड़कर आगे भी बढ़ सकता है। डीबगर एडिट एंड कन्टिन्यू (Edit and Continue) का समर्थन करता है, अर्थात यह कोड को डीबग होते समय ही संपादित किये जाने (केवल 32 Bit के लिये; 64 Bit में समर्थित नहीं) का समर्थन भी करता है।डीबगिंग करते समय, यदि किसी भी वेरियेबल पर माउस सूचक ले जाया जाए, तो इसका वर्तमान मान एक टूलटिप (“डेटा टूलटिप”) में प्रदर्शित होता है, जहां इसे इच्छानुसार संशोधित भी किया जा सकता है। कोडिंग के दौरान, विजुअल स्टूडियो डीबगर विशिष्ट कार्यात्मकताओं को तुरंत (Immediate) उपकरण विण्डो से मानवीय रूप से शुरु करने की अनुमति देता है। मेथड के लिये पैरामीटर इमीडियेट विण्डो पर भेजे जाते हैं।

4 – डिज़ाइनर (Designer)

विजुअल स्टूडियो में एक विजुअल डिज़ाइनर शामिल होता है।

  • विंडोज फॉर्म्स डिज़ाइनर
  • WPF डिज़ाइनर
  • वेब डिज़ाइनर/डेवलपमेंट
  • क्लास डिज़ाइनर
  • डेटा डिज़ाइनर
  • मैपिंग डिज़ाइनर

माइक्रोसॉफ्ट विजुअल स्टूडियो में एप्लीकेशन डेवलपमेंट के लिए विजुअल स्टूडियो हमें बहुत से ऐसे टूल्स उपलब्ध कराता है। जिनकी मदद से हम आसानी से किसी भी मोबाइल एप्लीकेशन को डेवलप कर सकते है।

शामिल उत्पाद (included product)

माइक्रोसॉफ़्ट विजुअल स्टुडियो मे शामिल प्रॉडक्ट निमन लिखित है।

  • माइक्रोसॉफ्ट विज़ुअल C + + (Microsoft Visual C++)
  • माइक्रोसॉफ्ट विजुअल C# (Microsoft Visual C#)
  • माइक्रोसॉफ्ट विजुअल बेसिक (Microsoft Visual Basic)
  • माइक्रोसॉफ्ट विजुअल वेब डेवलपर (Microsoft Visual Web Developer)
  • टीम फाउंडेशन सर्वर (Team Foundation Server)
  • विजुअल फॉक्सप्रो (Visual FoxPro)
  • विजुअल सोर्ससेफ (Visual SourceSafe)
  • विजुअल इंटरडेव (Visual InterDev)
विजुअल स्टूडियो एक्सप्रेस(Visual Studio Express)

माइक्रोसॉफ़्ट विजुअल स्टूडियो एक्सप्रेस संस्करण मुक्त व कम-भार वाले एकल IDE का एक समुच्चय है, जो एक प्रति-भाषा आधार पर विजुअल स्टूडियो IDE के न्यूनतम-आवश्यक संस्करणों के रूप में प्रदान किये गये हैं, अर्थात यह समर्थित भाषा के लिये भाषा सेवाओं को एकल विजुअल स्टूडियो शेल ऐप आईडी पर इन्स्टॉल करता है।

  • विजुअल बेसिक एक्सप्रेस (Visual Basic Express)
  • विजुअल C+ + एक्सप्रेस (Visual C++ Express)
  • विजुअल C# एक्सप्रेस (Visual C# Express)
  • विजुअल वेब डेवलपर एक्सप्रेस (Visual Web Developer Express)
विजुअल स्टूडियो टीम सिस्टम (Visual Studio Team System)

माइक्रोसॉफ़्ट विजुअल स्टूडियो टीम सिस्टम, विजुअल स्टूडियो प्रोफेशनल द्वारा प्रदत्त विशेषताओं के अतिरिक्त सॉफ्टवेयर विकास, सहयोग, मेट्रिक्स और रिपोर्टिंग उपकरणों का एक समुच्चय प्रदान करता है।

  • टीम एक्सप्लोरर (Team Explorer)
  • आर्किटेक्चर संस्करण (Architecture Edition)
  • डेटाबेस संस्करण (Database Edition)
  • विकास संस्करण (Development Edition)
  • परीक्षण संस्करण (Test Edition)

विजुअल स्टूडियो का इतिहास (History of Visual Studio)

विज़ुअल स्टूडियो 97 (Visual Studio 97)

माइक्रोसॉफ्ट ने पहली बार अपने अनेक प्रोग्रामिंग उपकरणों को एक साथ जोड़कर विजुअल स्टूडियो को सबसे पहले 1997 में रिलीज़ किया। विजुअल स्टूडियो 97 को दो संस्करणों, प्रोफेशनल और एन्टरप्राइज़, में रिलीज़ किया गया था। इसमें विजुअल बेसिक 5.0 और विजुअल C++ 5.0, मुख्यतः विण्डोज़ प्रोग्रामिंग के लिये विजुअल J++ 1.1, जावा तथा विण्डोज़ प्रोग्रामिंग के लिये; और विजुअल फॉक्सप्रो 5.0, डेटाबेस के लिये, विशिष्ट रूप से xBase प्रोग्रामिंग के लिये, को शामिल किया गया था। एक्टिव सर्वर पेजेस का प्रयोग करके गतिशील रूप से उत्पन्न वेब साइटों का निर्माण करने के लिये इसमें विजुअल इन्टरडेव को प्रस्तुत किया गया था। इसमें माइक्रोसॉफ्ट डेवलपर नेटवर्क लाइब्रेरी का एक स्नैपशॉट भी शामिल किया गया था। विजुअल C++, विजुअल J++, इन्टरडेव और MSDN लाइब्रेरी, सभी एक ही वातावरण का प्रयोग करते थे, जिसे डेवलपर स्टूडियो कहा जाता था।

विजुअल स्टूडियो 6.0 (Visual Studio 6.0) (1998)

माइक्रोसॉफ्ट ने 1998 में विजुअल स्टूडियो में कई सारे बदलाव करके विजुअल स्टूडियो 6.0 लांच किया, जिसमें j++ को परिवर्तित करके 1.1 बनाया गया। इस प्रकार के बहुत सारे परिवर्तन किए गए और कुछ नए-नए टूल्स भी ऐड किए गए। जैसे एप्लीकेशन परफॉर्मेंस एक्सप्लोरर, विजुअल स्टूडियो एनालाइजर, माइक्रोसॉफ्ट विजुअल मॉडल तथा ऑटोमेशन मैनेजर आदि।

विजुअल स्टूडियो 97 और विजुअल स्टूडियो 6.0 के अलावा बाद में माइक्रोसॉफ्ट ने समय-समय पर परिवर्तन करके नए नए वर्जन लॉन्च किए।

हमेशा की तरह, विजुअल बेसिक 6.0 को अनेक संस्करणों में प्रस्तुत किया गया। स्टैण्डर्ड, प्रोफेशनल और एन्टरप्राइज़. एन्टरप्राइज़ संस्करण में कुछ अतिरिक्त विशेषताएं शामिल हैं, जो स्टैण्डर्ड या प्रोफेशनल संस्करण में नहीं पाईं जातीं, जिनमें शामिल हैं।

  • एप्लीकेशन परफॉर्मन्स एक्सप्लोरर (Application Performance Explorer)
  • ऑटोमेशन मैनेजर (Automation Manager)
  • माइक्रोसॉफ्ट विजुअल मॉडलर (Microsoft Visual Modeler)
  • रेमऑटो कनेक्शन मैनेजर (RemAuto Connection Manager)
  • विजुअल स्टूडियो एनालाइज़र (Visual Studio Analyzer)
विजुअल स्टूडियो .NET (Visual Studio .NET) (2002)

माइक्रोसॉफ्ट ने विजुअल स्टूडियो .NET, जिसका कोडनाम रेनियर  वॉशिंगटन के माउन्ट रेनियर के नाम पर रखा गया था।  को फरवरी 2002 में रिलीज़ किया बीटा संस्करण को माइक्रोसॉफ्ट डेवलपर नेटवर्क के माध्यम से 2001 में रिलीज़ किया गया था।  .NET का प्रयोग करके एक प्रबंधित कोड विकास वातावरण की प्रस्तुति इसका सबसे बड़ा परिवर्तन था। .NET का प्रयोग करके विकसित किये गये प्रोग्राम्स को मशीनी भाषा उदा. जैसी C++ है। में नहीं, बल्कि माइक्रोसॉफ्ट इन्टरमीडिएट लैंग्वेज (MSIL) या कॉमन इन्टरमीडिएट लैंग्वेज (CIL) में कम्पाइल किया जाता है। जब किसी MSIL अनुप्रयोग को क्रियान्वित किया जाता है, तो यह जिस प्लैटफॉर्म पर क्रियान्वित किया जा रहा हो, उसके अनुसार उपयुक्त मशीनी भाषा में इसे क्रियान्वयन के दौरान ही कम्पाइल किया जाता है।

विजुअल स्टूडियो .NET 2003 (Visual Studio .NET 2003)

माइक्रोसॉफ्ट ने विजुअल स्टूडियो .NET अप्रैल 2003 में  एक छोटा अपग्रेड। विजुअल स्टूडियो .NET 2003, प्रस्तुत किया, जिसका कोड-नाम एवरेट था। इसमें .NET फ्रेमवर्क, संस्करण 1.1, के लिये एक अपग्रेड शामिल है। और यह ASP.NET या .NET कॉम्पैक्ट फ्रेमवर्क का प्रयोग करके मोबाइल उपकरणों के लिये प्रोग्राम्स के विकास का समर्थन करनेवाली पहली रिलीज़ है। विजुअल C++ कम्पाइलर की मानक-संगतता को, विशेषतः आंशिक टेम्पलेट विशेषीकरण के क्षेत्र में, सुधारा गया। विजुअल C++ टूलकिट 2003 IDE के बिना विजुअल स्टूडियो 2003 के साथ आने वाले C++ कम्पाइलर का ही एक मुक्त संस्करण है, हालांकि अब यह उपलब्ध नहीं है और एक्सप्रेस संस्करणों द्वारा इसका स्थान ले लिया गया है। विजुअल स्टूडियो .NET 2003 की आंतरिक संस्करण संख्या 7.1 है, जबकि फाइल प्रारूप संख्या 8.0 है।

विज़ुअल स्टूडियो 2005 (Visual Studio 2005)

विजुअल स्टूडियो 2005, जिसका कोड-नाम व्हिडबे था, जिसको अक्टूबर 2005 में ऑनलाइन तथा कुछ सप्ताहों बाद खुदरा दुकानों में रिलीज़ किया गया। माइक्रोसॉफ्ट ने विजुअल स्टूडियो 2005 (साथ ही साथ .NET नाम वाले प्रत्येक अन्य उत्पाद) से “.NET” उपनाम को हटा दिया, लेकिन अभी भी यह मुख्यतः .NET फ्रेमवर्क पर लक्ष्यित है, जिसे संस्करण 2.2 में अद्यतन किया गया था। यह विण्डोज़ 2000 के लिये उपलब्ध अंतिम संस्करण है।

विजुअल स्टूडियो 2005 को। NET फ्रेमवर्क 2.0 में प्रस्तुत सभी विशेषताओं, जेनरिक्स और ASP.NET 2.0 सहित, का समर्थन करने के लिये अपग्रेड किया गया था।

विजुअल स्टूडियो 2008 (Visual Studio 2008)

विजुअल स्टूडियो टीम सिस्टम 2008 को 19 नवम्बर 2007 को रीलीज किया और इस का कोड नाम ऑर्कस है। विजुअल स्टूडियो 2008 विण्डोज़ विस्टा, 2007 ऑफिस सिस्टम और वेब अनुप्रयोगों के विकास पर केंद्रित है।

विज़ुअल स्टूडियो 2010 (Visual Studio 2010)

विजुअल स्टूडियो 2010 के अंतिम संस्करण को 12-14 अप्रैल को डेवकनेक्शन्स सम्मेलन में प्रस्तुत किया जाना नियोजित है। माइक्रोसॉफ्ट की वेबसाइट के अनुसार, विजुअल स्टूडियो 2010 को स्वतः 12 अप्रैल 2010 को रिलीज़ किया।

विजुअल स्टूडियो 2010 के IDE की पुनर्रचना की गई है, जो, माइक्रोसॉफ्ट के अनुसार, UI संगठन को हटाती है और अव्यवस्था और जटिलता को कम करती है। नया IDE बहु-दस्तावेज़ विण्डोज़ और फ्लोटिंग टूल विण्डोज़ के लिये बेहतर समर्थन प्रदान करता है। और बहु-निरीक्षण समर्थन भी प्रस्तुत करता है। इस IDE शेल को विण्डोज़ प्रेज़ेंटेशन फाउंडेशन (WPF) का प्रयोग करके पुनर्लेखित किया गया है। जबकि आंतरिकों को मैनेज्ड एक्सटेन्सिबिलिटी फ्रेमवर्क (MEF) का प्रयोग करके पुनर्लेखित किया गया है, जो IDE के पिछले संस्करण, जिसने IDE के व्यवहार को संशोधित करने के लिये ऐड-इन्स को सक्षम बनाया था, की तुलना में अधिक वितान्यता बिंदु प्रस्तुत करता है। नई बहु-प्रतिमान प्रोग्रामिंग भाषा ML-भिन्न F विजुअल स्टूडियो 2010 का एक भाग है। जैसे M, पाठ्य मॉडलिंग भाषा और क्वाड्रंट (Quadrant), विजुअल मॉडल डिज़ाइनर, हैं, जो ऑस्लो पहल के भाग हैं।

विजुअल स्टूडियो के उत्पादों की सारणी-

उत्पाद का नामकोड नामवर्जन नंबररिलीज़ तिथि
विजुअल स्टूडियो 2019Dev 1616.002-04-2019
विजुअल स्टूडियो 2017Dev 1515.007-03-2017
विजुअल स्टूडियो 2015Dev 1414.020-07-2015
विजुअल स्टूडियो 2013Dev 1212.017-10-2013
विजुअल स्टूडियो 2012Dev 1111.012-09-2012
विजुअल स्टूडियो 2010Dev 1010.012-04-2010
विजुअल स्टूडियो 2008Orcas9.019-11-2017
विजुअल स्टूडियो 2005Whidbey8.007-11-2015
विजुअल स्टूडियो .NET 2003Everett 7.17.124-04-2003
विजुअल स्टूडियो .NET 2002Rainier 7.07.013-02-2002
विजुअल स्टूडियो 6.0Aspen 6.06.002-09-1998
विजुअल स्टूडियो 97Boston 5.05.019-03-1997
विजुअल स्टूडियो के फायदे (Advantages of Visual Studio)
सही कोडिंग

किसी भी वेबसाइट या एप्लीकेशन को बनाते समय कोडिंग की आवश्यकता होती हैं। यदि कोडिंग करते हुए कोई भी कमी रह गयी तो वेबसाइट ठीक प्रकार से कार्य नहीं करेगी। इसलिए जरूरी हैं कि कोडिंग सही हो विजुअल स्टूडियो में आपको लाइव असिस्टेंस सहायता मिलती हैं ।जिस कारण आप कोडिंग में कोई भी गलती होने पर सहायता के लिए पूछ सकते हैं। ऐसे ही विजुअल स्टूडियो में उपलब्ध फीचर के कारण कोडिंग में गलती होने की कमी बहुत कम होती हैं।

कठिन परिक्षण

विजुअल स्टूडियो एक एप्लीकेशन टेस्टिंग प्लेटफार्म के साथ आता हैं, जिस की सहायता से डेवलपर शुगमता से उच्च गुणवत्ता के उत्पाद तैयार कर सकते हैं। आप कह सकते हैं उत्पाद तो बढ़िया से बढ़िया तैयार होगा लेकिन उसे बनाने में परिश्रम कम लगेगा।

जल्दी डिबगिंग करना

कोई भी एप्लीकेशन या वेबसाइट बनाते समय कई परेशानी आती, जैसे की कोडिंग गलत हो जाना या बग आ जाना। वि जुअल स्टूडियो को इस प्रकार से विकसित किया गया हैं कि यह बग की समस्या को जल्द से जल्द ख़त्म कर दे। जितनी भी भाषा में आप विजुअल स्टूडियो में कोडिंग कर सकते हैं उन सभी भाषा के लिए आपको सपोर्ट मिलता हैं। आप चाहे तो स्वयं थोड़े से ही प्रयास से वेबसाइट के विकास के बीच में ही बग को ढूँढ सकते हैं।

कस्टमाइज विकल्प

विजुअल स्टूडियो कई एडवांस फीचर के साथ आता हैं जिनकी मदद से आप इसके मार्केटप्लेस पर उपलब्ध प्लेटफार्म को अधिक अच्छा बना सकते हैं। विजुअल स्टूडियो के प्लेटफार्म में आप एक्सटेंसन जोड़ सकते हैं तथा ऐड-ओंस का भी प्र्योद करे सकते हैं। यदि आप अपना एक्सटेंशन बनाना चाहते हैं तो आप आसानी से विकसित कर सकते हैं।

तो दोस्तों यह थी माइक्रोसॉफ्ट विजुअल स्टूडियो क्या है? पूरी जानकारी। आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं। यह आर्टिकल पढ़ने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद।