HTML क्या है और HTML कैसे सीखें?

What is HTML and How to Learn HTML

HTML एक MarkUp Language है, जिसे वेब डॉक्युमेंट (वेब पेज) बनाने के लिए विकसित किया गया है। इसका विकास 90 के दशक में हुआ था। यह एक वेब पेज का आधार होती है। और वेब पेज एक वेबसाइट का आधार होते है। HTML वेब डॉक्युमेंट को बनाने के किए ‘Tags’ का इस्तेमाल करती है।

HTML वह कोड होता है जिसका उपयोग किसी वेब पेज (web page)और उसकी सामग्री को तैयार करने के लिए किया जाता है। उदाहरण के लिए, सामग्री को पैराग्राफ के एक सेट के भीतर संरचित किया जा सकता है, बुलेटेड बिंदुओं की एक सूची, या छवि,वीडियो और टेबल का उपयोग कर।

structure 2Bof 2Bhtml

HTML का इतिहास – (History of HTML)
  • सन 1989 में टिम बर्नर्स-ली ने वर्ल्ड वाइड वेब यानि WWW का आविष्कार किया और इसके साथ ही उन्होंने इंटरनेट आधारित हाइपरटेक्स्ट सिस्टम पर काम करना शुरू कर दिया था।
  • सन 1990, टिम बर्नर्स-ली ने HTML का आविष्कार किया इसके साथ ही वेब ब्राउज़र और सर्वर सॉफ्टवेयर को बनाया।
  • 1991 में इन्टरनेट में पहली बार HTML के बारे में HTML Tags नाम का एक डॉक्यूमेंट रिलीज़ किया जिसमे लगभग 18 html तत्वों के बारे में बताया गया था।
  • 1993 में HTML 1.0 रिहाई हुआ जिसे जानकारी साझा करने के लिए उपयोग किया जाता था इसे वेब ब्राउज़र में ओपन करके पढ़ा जा सकता था।
  • 1995 HTML 2.0 पब्लिश हुआ जिसे HTML1.0 को सुधार करके बनाया गया था।
  • 1997 में इसका अलग वर्शन HTML 3.0 आया जो की W3C के द्वारा बनाया गया और standardized किया गया था।
  • 1997 के अंत में HTML 4.0 लांच हुआ जिसे फिर से मामूली संपादन करके 1998 में रिलीज़ किया गया था।
  • 1998 में HTML 4.01 आया जो की बहुत ही सफल संस्करण था और लगभग हर जगह उपयोग होने लगा।
  • 2014 में HTML 5 आया जो की अभी तक चल रहा है, इसमें कई सारे नये टैग्स को शामिल किया गया है।
HTML टैग क्या है? 

HTML टैग एक प्रकार के कीवर्ड हैं जो की वेब पेज के कंटेंट को पहचानने और उन्हें सही फॉर्मेट में दिखाने में वेब ब्राउज़र की मदद करता है।

जब वेब पेज ब्राउज़र में पहुचता है तो ब्राउज़र उसे ऊपर से नीचे स्कैन करता है और इन टैग्स की मदद से कंटेंट को समझकर उसे प्रस्तुत करता है।

  • सारे टैग < > के अंदर लिखे जाते हैं, जैसे: <tag>
  • टैग्स के तीन हिस्से होते हैं: उद्घाटन टैग, सामग्री, समापन टैग
  • ओपनिंग टैग कुछ इस तरह होते हैं: <tag>
  • वहीँ क्लोजिंग टैग में ब्रैकेट के अंदर स्लैश का उपयोग किया जाता है जैसे: </tag>
  • इन दोनों के बीच में हमें अपने सामग्री को रखना होता है
  • कुछ टैग्स ऐसे भी होते हैं जिनके समापन टैग नही होते
  • अलग-अलग प्रकार के कंटेंट के लिए अलग-अलग प्रकार के टैग्स उपयोग किये जाते हैं
  • आप एक वेब पेज में जितने चाहें उतने टैग्स अपनी जरुरत के अनुसार उपयोग कर सकते हैं
<h1> Heading </h1>
<p> Paragraph </p>
<b> Bold </b>
<i> Italic </i>
<u> underline </u>
HTML कैसे काम करता है?

किसी वेबसाइट के सारे HTML फाइल्स वेब सर्वर में मौजूद रहते हैं जब आप अपने कंप्यूटर या मोबाइल के वेब ब्राउज़र (जैसे: गूगल क्रोम, मोज़िला फायरफॉक्स, इन्टरनेट एक्स्प्लोरर आदि) से उस वेबसाइट के किसी पेज को एड्रेस डालकर खोलते हैं तो वह HTML फाइल सर्वर से आपके कंप्यूटर में आता है और आपके ब्राउज़र में पहुँचता है।

HTML file का एक्सटेंशन html या html होता है जिसे ब्राउज़र उपर से निचे बाएं से दायें स्कैन करता है और उसके अंदर मौजूद html तत्वों और tags को पहचानने की कोशिश करता है और पूरे पेज के स्ट्रक्चर को समझता है। एलेमेंट्स के अनुसार यह निर्णय लेता है उस कंटेट को किस तरह से अपने यूजर के स्क्रीन पर दिखाया जाय।

HTML की विशेषताएँ
  • यह काफी सरल भाषा है। इसलिए इसे सिखने में ज्यादा समय नहीं लगता है।
  • वेब पेज के हर एक तत्व के लिए एक टैग बना हुआ है।
  • इसका इस्तेमाल किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम में कर सकते हैं।
  • यह एक तरह का मार्कअप लैंग्वेज है।
  • इसे text को प्रारूप करने के लिए उपयोग करते हैं।
  • हालाँकि यह कोड्स के रूप में रहता है, पर ब्राउज़र में परिणाम देखने पर बस टेक्स्ट दिखता है।
  • HTML की मदद से किसी भी वेब दस्तावेज़ या पेज में मीडिया फाइल जोड़ सकते हैं।
HTML किसे और क्यों सीखना चाहिए 

अगर आप कंप्यूटर सीख रहे है या आईटी सेक्टर में जाना चाहते है या आप डिजिटल मार्केटिंग कर रहें है। तो इन सब चीज़ों में आपको html की जानकारी होनी चाहिए। क्योंकि धीरे धीरे लगभग सभी प्रकार के बिजनेस ऑनलाइन होते जा रहे हैं और ऐसे में उस बिजनेस के लिए एक वेबसाइट और ऐप का होना बहुत जरूरी है। अगर आपको html की अच्छी जानकारी है तो आप फ्रीलांसिंग भी कर सकते है।

फ्रीलांसिंग के लिए आप फ्रीलांसर नाम की वेबसाइट का यूज कर सकते है जिसमें वेब डिजाइनिंग के कई सारे प्रोजेक्ट पोस्ट होते रहते है। इसमें आप लोगो की पसंद के अनुसार वेबसाइट बनाकर उन्हें दे सकते है। और बदले में वो आपको एक तय अमाउंट पे कर देंगे।वेब डेवलपमेंट में काफी डिमांड है लोग एक एक वेबसाइट का 10 से 20 हजार तक चार्ज करते है. इसलिए अगर आप कंप्यूटर और इंटरनेट के फ़ील्ड में जाना चाहते है तो html को जरूर सीखना चाहिए।

HTML के फायदे (Advantages of HTML)
  • बहुत सारे संसाधनों और एक विशाल समुदाय के साथ एक व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली भाषा।
  • प्रत्येक वेब ब्राउज़र में मूल रूप से चलता है।
  • एक फ्लैट लर्निंग कर्व के साथ आता है आसान सीखना।
  • ओपन-सोर्स और पूरी तरह से मुक्त HTML खुला स्रोत।
  • स्वच्छ और सुसंगत मार्कअप।
  • आधिकारिक वेब मानक वर्ल्ड वाइड वेब कंसोर्टियम (W3C) द्वारा बनाए रखा जाता है।
  • HTML को आसानी से PHP और Node.js.,ASP.NET के साथ काम कर सक्ते है
HTML के नुकसान (Disadvantages of HTML)
  • ज्यादातर स्थैतिक वेब पृष्ठों के लिए उपयोग किया जाता है। गतिशील कार्यक्षमता के लिए, आपको जावास्क्रिप्ट या PHP जैसी बैकएंड भाषा का उपयोग करने की आवश्यकता हो सकती है।
  • यह उपयोगकर्ता को तर्क को लागू करने की अनुमति नहीं देता है। नतीजतन, सभी वेब पृष्ठों को अलग से बनाने की आवश्यकता होती है, भले ही वे एक ही तत्वों का उपयोग करते हों, उदा। शीर्षलेख और पादलेख।
  • कुछ ब्राउज़र धीरे-धीरे नई सुविधाएँ अपनाते हैं।
  • ब्राउज़र व्यवहार कभी-कभी भविष्यवाणी करना कठिन होता है (जैसे पुराने ब्राउज़र हमेशा नए टैग प्रदान नहीं करते हैं)।