दशहरा/विजयदशमी क्या है? और यह क्यों मनाया जाता है?

भारत वर्ष में मनाये जाने वाले त्यौहार किसी न किसी रूप में बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश देते हैं लेकिन असल में जिस त्यौहार को इस संदेश के लिये जाना जाता है वह है दशहरा। दीवाली से ठीक बीस दिन पहले। पंचाग के अनुसार आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी को विजयदशमी अथवा दशहरे के रुप में देशभर में मनाया जाता है। दशहरा हिंदूओं के प्रमुख त्यौहारों में से एक है। यह त्यौहार भगवान श्री राम की कहानी तो कहता ही है जिन्होंनें लंका में 9 दिनों तक लगातार चले युद्ध के पश्चात अंहकारी रावण को मार गिराया और माता सीता को उसकी कैद से मुक्त करवाया। वहीं इस दिन मां दुर्गा ने महिषासुर का संहार भी किया था इसलिये भी इसे विजयदशमी के रुप में मनाया जाता है और मां दूर्गा की पूजा भी की जाती है। माना जाता है कि भगवान श्री राम ने भी मां दूर्गा की पूजा कर शक्ति का आह्वान किया था, भगवान श्री राम की परीक्षा लेते हुए पूजा के लिये रखे गये कमल के फूलों में से एक फूल को गायब कर दिया। चूंकि श्री राम को “राजीव-नयन” यानि कमल से नेत्रों वाला कहा जाता था इसलिये उन्होंनें अपना एक नेत्र मां को अर्पण करने का निर्णय लिया ज्यों ही वे अपना नेत्र निकालने लगे देवी प्रसन्न होकर उनके समक्ष प्रकट हुई और विजयी होने का वरदान दिया। माना जाता है इसके पश्चात दशमी के दिन प्रभु श्री राम ने रावण का वध किया। भगवान राम की रावण पर और माता दुर्गा की महिषासुर पर जीत के इस त्यौहार को बुराई पर अच्छाई और अधर्म पर धर्म की विजय के रुप में देशभर में मनाया जाता है। देश के अलग-अलग हिस्सों में इसे मनाने के अलग अंदाज भी विकसित हुए हैं। कुल्लू का दशहरा देश भर में काफी प्रसिद्ध है तो पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा सहित कई राज्यों में दुर्गा पूजा को भी इस दिन बड़े पैमाने पर मनाया जाता है।

दशहरा / विजयदशमी क्यों मनाया जाता है ?

दशहरे के इस पर्व को विजयादशमी या विजयदशमी भी कहा जाता है, आज के वक्त में यह दशहरा बुराई पर अच्छाई की जीत का ही प्रतीक हैं। आज के वक्त में यह बुराई किसी भी रूप में हो सकती हैं जैसे गुस्सा, असत्य, बैर, ईर्ष्या, दुःख, आलस्य आदि। किसी भी आतंरिक बुराई को ख़त्म करना भी एक आत्म विजय हैं और हमें प्रति वर्ष अपने अंदर से इस तरह की बुराई को खत्म कर विजय दशमी के दिन इसका जश्न मनाना चाहिए।

दशहरा पर्व की कहानी क्या है? क्यों मनाया जाता है।

दशहरा के दिन के पीछे कई कहानियां हैं, जिनमे सबसे प्रचलित कथा हैं भगवान राम का युद्ध जीतना यानी रावण की बुराई का विनाश कर उसके घमंड को तोड़ना।

राम अयोध्या नगरी के राजकुमार थे, उनकी पत्नी का नाम सीता था एवम उनके छोटे भाई थे, जिनका नाम लक्ष्मण था। राजा दशरथ राम के पिता थे। उनकी पत्नी कैकई के कारण इन तीनो को चौदह वर्ष के वनवास के लिए अयोध्या नगरी छोड़ कर जाना पड़ा। उसी वनवास काल के दौरान रावण ने माता सीता का अपहरण कर लिया।

रावण चतुर्वेदो का ज्ञाता महाबलशाली राजा था, जिसकी सोने की लंका थी, लेकिन उसमे अपार अहंकार था। वे महान शिव भक्त थे और खुद को भगवान विष्णु का दुश्मन बताते थे। वास्तव में रावण के पिता विशर्वा एक ब्राह्मण थे और माता राक्षस कुल की थी, इसलिए रावण में एक ब्राह्मण के समान ज्ञान था एवम एक राक्षस के समान शक्ति और इन्ही दो बातों का रावण में अहंकार था। जिसे ख़त्म करने के लिए भगवान विष्णु ने रामावतार लिया था।

राम ने अपनी सीता को वापस लाने के लिए रावण से युद्ध किया, जिसमें वानर सेना एवम हनुमान जी ने राम का साथ दिया। इस युद्ध में रावण के छोटे भाई विभीषण ने भी भगवान राम का साथ दिया और अन्त में भगवान राम ने रावण को मार कर उसके घमंड का नाश किया। “इसी विजय के स्वरूप में प्रति वर्ष विजयदशमी मनाई जाती हैं”।

दशहरा या विजयदशमी महत्व क्या है?

यह बुरे आचरण पर अच्छे आचरण की जीत की ख़ुशी में मनाया जाने वाला त्यौहार।सामान्य तो दशहरा एक जीत के जश्न के रूप में मनाया जाने वाला त्यौहार हैं। जश्न की मान्यता सबकी अलग-अलग होती हैं। जैसे किसानो के लिए यह नई फसलों के घर आने का जश्न हैं। पुराने वक़्त में इस दिन औजारों एवम बंदूकें की पूजा की जाती थी, क्यूंकि वे इसे युद्ध में मिली जीत के जश्न के तौर पर देखते थे। लेकिन इन सबके पीछे एक ही कारण होता है बुराई पर अच्छाई की जीत। किसानो के लिए यह जीत के रूप में आई फसलों का जश्न एवम सैनिको के लिए युद्ध में दुश्मन पर जीत का जश्न हैं।

  • बुराई पर अच्छाई की जीत, झूठ पर सच्चाई की जीत, अहम् ना करो गुणों पर यही हैं इस दिवस की सीख
 नवरात्रि क्या है? नवरात्रि क्यो मनाई जाती है।
 दीपावली क्या है? और यह क्यो मनाई जाती है।
SHARE