डिजिटल मार्केटिंग क्या है? (What is Digital Marketing)

Digital-Marketing-Kya-Hai

डिजिटल मार्केटिंग क्या है? (What is Digital Marketing)

डिजिटल मार्केटिंग एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा हम किसी भी उत्पाद या सेवा को ऑनलाइन प्रमोट कर सकते है या फिर बेच सकते है | इन दिनों, लोग बहुत ज्यादा ऑनलाइन शोध करते है, चाहे कोई वास्तु या सेवा खरीदनी हो, चाहे घर या केक खरीदना हो, वे ज्यादातर मोबाइल या कंप्यूटर के द्वारा ऑनलाइन शोध करते है | निस्संदेह, इंटरनेट सारे मंचो को डिजिटिकरण करने में अहम् भूमिका निभाता है | लगभग ८०-९०% लोग अधिकतर सेवाओं को डिजिटल माध्यम से ही उपयोग करते है जैसे कि ऑनलाइन खरीददारी, टिकट बुकिंग, बिल भुगतान, फ़ोन रिचार्ज, ऑनलाइन लेनदेन एवं बहुत कुछ | कि डिजिटल मार्केटिंग है क्या?

अपनी सेवाओं और उत्पादों को डिजिटल स्त्रोत के माध्यम से ऑनलाइन बेचना ही डिजिटल मार्केटिंग कहा जाता है जिसमे इंटरनेट बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है | ये ऑनलाइन नए ग्राहकों तक पहुँचने का प्रभावी रास्ता है और इसलिए इसे ऑनलाइन मार्केटिंग भी कहा जाता है | इसको पूर्ण रूप से लागू होने में भोत समय लगा. कुछ पहल कि गयी थी जो कि कामयाब नहीं हुई | फिर से कोशिश की गयी और डिजिटल मार्केटिंग कामयाब हुई | चाहे वो अकेला व्यापारी हो, छोटा उद्यमी हो या फिर बड़ी कंपनी हो, डिजिटल मार्केटिंग कम समय में अधिकतर और सही लोगो तक पहुँचने में मदद करती है | इसलिए ये नविन टेक्नोलॉजी है जिसके द्वारा ज्यादा लोगो तक पहुंचा जा सकता है |

डिजिटल मार्केटिंग का महत्व क्या है?

इस आधुनिक संसार में बने रहने के लिए हमे नए तौर तरीको का इस्तेमाल करना चाहिए जिनमे से डिजिटल मार्केटिंग भी है जो कि बहुतायत प्रयोग होता है इंटरनेट कि मदद से | लोगो के पास समय भी कम है और मार्केटिंग गतिविधियों पे चर्चा करने की इच्छा और क्षमता भी कम है | दरअसल, लोगो के पास मिलने का समय निकलना भी आसान नहीं है | दूसरी तरफ, डिजिटल मार्केटिंग और ऑनलाइन मार्केटिंग सोशल नेटवर्किंग साइट्स के द्वारा किसी व्यक्ति को सक्षम बनता है दूसरे लोगो से संबंध बनाने के लिए, बाकी क्रियाकलाप करते हुए | इसी सुविधा, प्रभावी लागत और कम समय को देखते हुए, डिजिटल मार्केटिंग का उपयोग दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है |

डिजिटल मार्केटिंग व्यवसायी और ग्राहक दोनों को अत्यधिक सुविधा के साथ काम करने के लिए सक्षम बनाता है | लोग अपने व्यवसाय के उत्पादों और सेवाओं की बिक्री को बिना बाज़ार में जाए बढ़ा सकते है | कुछ भी गूगल करो और वो पाओ जो आप खरीदना चाह रहे है

  • समय बचाता है
  • पैसा बचाता है
  • प्रभावपूर्णता बढ़ाता है
  • मापने योग्य परिणाम देता है
  • खरीददार और विक्रेता को आसानी से मिलाता है

Digital marketing कैसे शुरू करें – How to start digital marketing

Blogging

digital marketing में कदम रखने के लिए यह एक अच्छा तरीका है और आप इस पर free में काम कर सकते है। बहुत सारे लोगो ने अपने blogging care से ही digital marketing की दुनिया मे कदम रखा और वह digital expert बन चुके है। यह आपको सीखने और सिखाने दोनों का काम करता है।

Search Engine Optimisation(SEO)

अगर आप search engine के द्वारा अपनी website पर बहुत सारी traffic या customer पाने चाहते है तो आपको SEO का ज्ञान होना जरूरी है। क्या आप जानते है बहुत सारी कंपनी अपनी website के SEO पर हजारों और लाखों रुपये खर्च करती है। अगर आप SEO expert बन जाते है। तो आप एक अच्छी सैलरी वाली job भी प्राप्त कर सकते

Youtube channel

यूट्यूब आज के समय मे दूसरा सबसे बड़ा search engine है जिसका मतलब है कि youtube पर बहुत अधिक traffic रहता है। यह एक ऐसा ज़रिया है जहाँ पर आप अपने product को video द्वारा promote करते है।

बहुत सारी कंपनी अपने Product के बारे में लोगो को बताने के लिए बड़े-बड़े youtuber को अपने Product का रिव्यु करने के लिए पैसे देती है।

अगर आप एक video creator है तो आप youtube का इस्तेमाल करके digital marketing start कर सकते है। यह भी एक free plateform है जिसका इस्तेमाल आप कर सकते है।

Social media

digital marketing करने के लिए यह सबसे आसान और popular तरीका है। बहुत सारी कंपनियां अपने promotion के लिए social media का इस्तेमाल करती है। अपने भी कई बार social media पर बहुत सारी कंपनियों के विज्ञापन जरूर देखें होगें जैसे Facebook, Twitter, instagram etc

अपने Internet पर बहुत सारे विज्ञापन देखे होंगे क्या आप जानते है कि इसमें से अधिकतर विज्ञापन google द्वारा दिखाये जाते है। google adwords की help से आप अभी अपने product की marketing कर सकते है। यह एक paid service है जिसे लिए आपको पैसे देने पड़ते है। उसके बाद आप अपनी target audience तक अपने प्रोडक्ट को पहुँचा सकते है।

Affiliate marketing

यह एक commission पर आधारित marketing है Online shopping और product बेचने वाली कंपनियां ऐसे affiliate program चलती है। जिसके तहत आप उस website के किसी भी product को बेच सकते है। जिसके बाद Commission के रूप में उसको कुछ पैसे देती है।

यह digital marketing का सबसे चालाक तरीका है। जिसे website की marketing भी होती है और product भी sale होते है। क्योंकि affiliate marketing में product बेचने पर ही commission मिलता है।

Apps marketing

जितनी भी बड़ी-बड़ी website होती है उन सभी के App आपको Google play store में देखने को मिल जाते है। क्योंकि आज की digital दुनिया मे हर किसी के पास smartphone मिल जाता है और अधिकतर लोगों shopping, money transfer, online booking, news, and social mediaके लिए एप्प का इस्तेमाल करना पसंद करते है। इसलिए कंपनी का एप्प बनकर भी उसकी Digital marketing को बढ़ा सकते है।

Email Marketing

यह किसी भी कंपनी के लिए बहुत जरूरी होता है कि यह email marketing करें। क्योंकि जो नये offer और discounts होते है उसे आप direct email के जरिये अपने customer तक पहुँचा सकते है। और साथ ही customer से feedback प्राप्त कर सकते हैं।

Digital marketing के और भी बहुत सारे तरीके है। परंतु आपको उन तरीको पर काम करना है जिस पर आपको ज्यादा से ज्यादा traffic मिले क्योकि जितने अधिक लोगों आपके product को देखेंगे आपके product उतने ही अधिक sale होंगे। और जैसे की हमे आपको ऊपर बताया है आज के समय मे सबसे अधिक traffic इन्ही तरीकों का इस्तेमाल करके प्राप्त कर सकते है।

डिजिटल मार्केटिंग के प्रकारTypes of Digital Market

SEO
यह ऐसा तकनीक है जिसको करने से आपकी वेबसाइट की रैंकिंग सर्च इंजन पर ऊपर आती रहती है वेबसाइट की रैंकिंग को बेहतर बनाने के लिए ये कुछ टिप्स आपकी सहायता कर सकते हैं-

Title Tag – किसी भी पेज का टैग search इंजन को बताता है कि आपका पेज या सर्विस किस बारे में है। यह 40 और 60 वर्ण के बिच में होना चाहिए। अगर अपने ने अपनी वेबसाइट का title और tag एक ही रखा है तो आपकी वेबसाइट बहुत जल्द रैंक करने लगती है।

मेटा विवरण – आपकी वेबसाइट पर मेटा विवरण search इंजनों को प्रत्येक पृष्ठ के बारे में थोड़ा और बताता है। इसका उपयोग आपके मानव आगंतुकों द्वारा यह समझने के लिए किया जाता है कि पृष्ठ क्या है और यदि यह प्रासंगिक है तो बेहतर ढंग से समझा जा सके। इसमें आपका कीवर्ड शामिल होना चाहिए और पाठक को यह बताने के लिए पर्याप्त विवरण भी देना चाहिए कि content क्या है।

सब-हेडिंग – यह सर्च इंजन और पोस्ट पड़ने वालो को आसानी से समझाने में मदद करता है कि आपकी पोस्ट किस बारे में है इसलिए सब हेडिंग का प्रयोग किया जाता है इसके अलावा जब सर्च इंजन किसी भी पेज को crawl करता है तो सर्च इंजन कीवर्ड्स से संधित टैग को ही scan करता है हम सर्च इंजन को content के बारे में बेहतर समझने के लिए H1, H2 और H3 टैग का उपयोग करते हैं।

आंतरिक लिंक – वेबसाइट को रैंक करने के लिये हाइपरलिंक बहुत महत्वपूण होती है इसका मतलब ये होता है कि बिना link के आप कोई जानकारी हासिल नहीं कर सकते है उदाहरण जब हम किसी सेवा के बारे में लिख रहे है तो हम अपने वेबसाइट पर दूसरी सेवा लिंक लगा सकते है। यह एक page से दुसरे page पर जाने में मदद करता है।

इमेज का नाम और ALT टैग – किसी भी फोटो पर ALT टैग इसलिए लगाना पड़ता है क्युकी ये सर्च इंजन को बताता है कि आपकी फोटो क्या है बिना ALT टैग के सर्च इंजन फोटो तो पढ़ नहीं पता है जब भी कोई सर्च इंजन पर फोटो देखता है तो सर्च इंजन वहा आपकी फोटो भी दिखता है ALT टैग लगाने से हमारी वेबसाइट की रैंकिंग बढ़ती है।

सोशल मीडिया मार्केटिंग (Social Media Marketing)

सोशल मीडिया के माध्यम से व्यक्ति अपने विचारो को लोगों के सामने रख सकता है इन साइटों पर आप ने विज्ञापन देखे होंगे जो पैसे देकर चलते है इन्हे सोशियल मीडीया मार्केटिंग कहते है।

फेसबुक
इंस्टाग्राम
यूट्यूब
कंटेंट मार्केटिंग लाभदायक ग्राहक कार्रवाई ड्राइविंग के उद्देश्य से – स्पष्ट रूप से परिभाषित दर्शकों को आकर्षित करने और प्राप्त करने के लिए मूल्यवान, प्रासंगिक और सुसंगत सामग्री बनाने और वितरित करने की एक विपणन तकनीक है।

डिजिटल मार्केटिंग के लाभ

किसी दूसरे offline मार्केटिंग से काफी अच्छा डिजिटल मार्केटिंग है इसमें पैसे लगाने के बाद तुरंत बाद लाभ मिलने लगता है उदाहरण अगर आप अपने बिज़नेस का विज्ञापन किसी अख़बार या पोस्टर लगा कर करते हो तो ये बताना मुश्किल होगा कि आपका विज्ञापन कितने लोगो ने पड़ा और ये जरूरतमंदो के पास पहुंचा या नहीं। जबकि डिजिटल मार्केटिंग में आपका विज्ञापन हजारो लोगो के पास पहुंच जाता है और जिसको जरूरत होती है वो इसे पढ़ के आपके पास आता है।

डिजिटल मार्केटिंग की उपयोगिताएं Benefits of DM 1024x538 1

आप अपनी वेबसाइट पर ब्रोशर बनाकर उस पर अपने उत्पाद का विज्ञापन लोगों के लेटेर-बॉक्स पर भेज सकते हैं। कितने लोग आपको देख रहे हैं यह भी पता लगाया जा सकता है।

(ii) वेबसाइट ट्रेफ़िक- सबसे ज्यादा दर्शकों की भीड़ किस वेबसाइट पर है – पहले ये आप जान ले , फिर उस वेबसाइट पर अपना विज्ञापन डाल दें ताकी आपको अधिक लोग देख सकें ।

(iii) एटृब्युषन मॉडलिंग – इसके द्वारा ह्म यह पता कर सकते है की आजकल लोग किस उत्पाद में रुचि ले रहे हैं या किन-किन विज्ञापनों को देख रहे हैं । इसके लिये विशेश टूल का प्रयोग करना होता है जो की एक विशेश तकनीक के द्वारा किया जा सकता है और ह्म अपने उपभोक्ताओं की हरकतें यानी उनकी रुचि पर नज़र रख सकते हैं।

आप अपने उपभोक्ता से किस प्रकार सम्पर्क बना रहे हैं यह विषय महत्वपूर्ण है। आप उनकी आवश्यक्ता के साथ पसंद पर भी दृष्टी बनाकर रखा करें ऐसा करने से व्यापार में वृद्घि हो सकती है

डिजिटल मार्केटिंग के बहुतायत पहलू :

  • SEO : ये एक ऐसा प्रौद्योगिकीय स्त्रोत है जिसमे वेबसाइट को सर्च इंजन की कलन विधि के द्वारा सही कीवर्ड का उपयोग करते हुए ऑप्टिमाइज़ किया जाता है | SEO बहुत सारी ऑन-पेज और ऑफ पेज गतिविधियों का जोड़ है जो वेबसाइट को सर्च इंजन के फर्स्ट पेज पे लाने में मदद करता है और साथ ही में वेबसाइट पर ज्यादा ट्रैफिक लाने में और उचित व्यावसायिक लीडस् लाने में मदद करता है | संक्षेप में, इसका कार्य वेबसाइट की सम्पूर्ण अभिनय को बढ़ाने में मदद करता है |
  • SMO : सोशल मीडिया ऐसा एकमात्र स्त्रोत है जिसके द्वारा बहुतायत लोगो से फेसबुक, लिंकडइन, ट्विटर, पिंटरेस्ट, एंड अन्य साइट्स द्वारा जुड़े रहने का मौका मिलता है | ये सारी साइट्स अब व्यवसाय के तरक्की और मार्केटिंग के लिए उपयोग की जाती है | विज्ञापनदाता अपने व्यवसाय के उत्पादों और सेवाओं को प्रदर्शनकारी विज्ञापनों की सहायता से प्रचार कर सकते है जो उपयोगकर्ता को कुछ समय अंतराल के बाद दिखती रहती है | ये ज्यादा लोगो तक पहुँचने का और कम लागत में ज्यादा बिज़नेस लाने का अनुपम तरीका है |
  • ईमेल मार्केटिंग: इसका कार्य कंपनी के उत्पादों की जानकारी अपने मेल के इनबॉक्स में पाना है | जब भी कोई कंपनी नया उत्पाद या सेवा को प्रारम्भ करती है, या कोई नया ऑफर निकालती है, वो ये सारी इनफार्मेशन मेल के द्वारा भेजना ज्यादा सही समझती है क्यूंकि इससे एक साथ काफी सारे लोगो तक जानकारी पहुंचाई जा सकती है | ये भी मार्केटिंग का उत्तम तरीका है |
  • वीडियो का प्रचार: यदि हम वीडियो के प्रचार को ले के बात करे तो यूट्यूब ही एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा उत्पादों और सेवाओं को अच्छे तरीके से प्रचार करे सकते है क्योंकि इन वीडियो में ज्यादा मात्रा में ट्रैफिक होता है| इन यूट्यूब वीडियो पर विज्ञापन दिखाने से या वीडियो के द्वारा प्रचार करने से दर्शको और उपयोगकर्ताओं को उत्पादों और सेवाओं को खरीदने के लिए उकसाहित किया जा सकता है| संक्षेप में, ये ब्रांडिंग का बहुत बेहतर स्त्रोत है|
  • एफिलिएट मार्केटिंग: क्या आप लोगो को मुँह से प्रशंसा करते हुए मार्केटिंग याद है? एफिलिएट मार्केटिंग भी कुछ इस तरह की मार्केटिंग ही है जिसके द्वारा हरेक एफिलिएट मार्केटर को कुछ फायदा हर बिक्री पर| अगर आपके पास आपका खुद का कोई यूट्यूब माध्यम है या फिर कोई ब्लॉग की वेबसाइट है जिसमे ज्यादा ट्रैफिक है, तो आप भी अपने उन माध्यमों में विज्ञापनकर्ता के उत्पाद का लिंक उस पर लगा सकता है और हर बिक्री पर कुछ फायदा उठा सकता है|
  • PPC और पे पर क्लिक: आर्गेनिक परिणाम लाने में थोड़ा सा टाइम लगता है जबकि PPC एक ऐसा स्त्रोत है जिसके द्वारा कोई भी मार्केटर हर क्लिक के भुगतान पर तुरंत एक व्यावसायिक लीड ले सकता है| ये मापांक हर क्लिक पर कुछ भुगतान ले ले लेता है और इसके द्वारा आये व्यवसाय को मापना भी आसान है| शुरूआती व्यापारी PPC सेवाओं का ही उपयोग करते है ताकि शुरुआत में तुरंत लीडस् मिल सके और व्यापर को और विकसित किया जा सके |
  • ORM और ऑनलाइन रेपुटेशन मैनेजमेंट: वेबसाइट को बनाना और उसे ऊपर की स्थिति में लाना ही काफी नहीं है| सम्पूर्ण एंड सकारात्मक ऑनलाइन दृश्यता भी होना जरुरी है| एक नकारात्मक समीक्षा या प्रतिक्रिया वेबसाइट के अभिनय को गिरा सकती है| इसलिए ORM की सेवाओं की जानकारी होना भी जरुरी है क्यूंकि ये सकारात्मक रूप से व्यवसाय को ब्रांड बनाने में मदद करती है और नकारात्मक समीक्षा को पीछे धकेलती है|
  • एप्प मार्केटिंग: एप्प ही एकमात्र ऐसा स्त्रोत है जिसके द्वारा आप किसी के भी मोबाइल फ़ोन में काफी लम्बे समय तक रह सकते हो और वो अपनी सर्विसेज को कभी भी खरीद सकता है| एप्प का उपयोग दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है| अगर कोई भी अच्छे से समृद्ध हो जाती है तब वो एप्प बनवाती है और उसके द्वारा ही व्यवसाय का प्रचार करती है जैसे की बाकि व्यवसाय करते है जैसे अमेज़न, फ्लिपकार्ट, Paytm , इत्यादि

वर्तमान और भविष्य में डिजिटल मार्केटिंग की मांग

एक वक़्त था जब उत्पाद या सेवा वस्तु-विनिमय के माध्यम से बिकती थी और अब इन दिनों, हर वस्तु इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन मौजूद है |

इंटरनेट ने दुनिया में रह रहे लोगो को एक दूसरे से जुड़ने का एक अद्भुत मंच दिया है जो कि पहले मुमकिन नहीं था | इंटरनेट ही एक ऐसा माध्यम है जिसकी वजह से विक्रेता और ग्राहकों के मध्य नियमित वार्तालाप के माध्यम से उत्तम सामंजसय बनाया जा सकता है |

डिजिटल मार्केटिंग की प्रभावशीलता उत्पादों और सेवाओं की तीव्र बिक्री के रूप पे देखि जा सकती है | पहले, निर्मित उत्पाद काफी लम्बे समय तक गोदामों में पढ़े रहते थे और सड़ते रहते थे क्यूंकि उनकी बिक्री समय पर नहीं हो पाती थी | उत्पादों को बेचने के लिए ऑफलाइन विज्ञापनों की मदद ली जाती थी जो कि बहुत महंगे होते थे और कम लोगो तक ही विज्ञापन पहुँच जाता था | वो विज्ञापन अपने मूल्य के अनुसार प्रभावशाली नहीं होते थे | इन दिनों ऐसा नहीं है, विभिन्न सर्च इंजन जैसे गूगल, फेसबुक, यूट्यूब इत्यादि की मदद से पहुँच ज्यादा और उचित है | उत्पाद अब सही लोगो को ज्यादा से ज्यादा दिखते है | ऑनलाइन वितरण की वजह से इनको सही लोगो तक तुरंत पहुँचाया जा सकता है और इसके उपलक्ष में भुगतान ऑनलाइन प्राप्त किया जा सकता है | अत: कोई भी भौतिक मौजूदगी की जरुरत नहीं और डिजिटल स्त्रोतों के द्वारा सारा कार्य आसानी से किया जा सकता है |

मूल्य वापस, सुविधाजनक प्रतिस्थापन्न और वापस नीति के साथ, उत्पादों को बेचना ज्यादा प्रभावी है | डिजिटल मार्केटिंग एक प्रचलित पंक्ति पर आधारित है -“जो दिखता वो बिकता है” | लोग इन दिनों इतने ज्यादा अवगत है की कोई भी विक्रेता और व्यवसायी कोई भी गलत जानकारी का इस वेब दुनिया में खुलासा नहीं कर सकता | साइबर नीतियों की सहायता से सर्च इंजन झूठे प्रोफाइल पे रोक लगा सकता है अगर कोई भी ग्राहक या दर्शक शिकायत कर दे |

भविष्य में भी व्यवसाय ऑनलाइन दृश्यता और सम्पूर्ण दक्षता पर आधारित रहेगा | दरअसल, नवीनीकरण और आधुनिकीकरण की वजह से लोगो को सही समय पर सही जानकारी के साथ सही उत्पाद और सेवाएं मिल सकेगी |


 

SHARE