बिटकॉइन माइनिंग क्या है (What is Bitcoin Mining in Hindi)

what is bitcoin mining

ये एक Bitcoin Data Center के तरह है पर ये Decentralized system है जिसे की दुनिया भर में स्थित Miners control करते हैं, यहाँ कोई अकेला आदमी इसे control नहीं कर सकता. इसे Decentralized system इसलिए कहा जाता है क्योंकि ये किसी एक individual से control नहीं हो सकता. यहाँ खुदाई (Gold mining) की जगह Transaction को process करने का इनाम भी मिलता है.

यहाँ जो जितना जल्दी और जितने मात्रा में काम करेगा उसे उस हिसाब से पुरस्कार मिलता है. Bitcoin mining सिर्फ नए Bitcoin को तैयार करने में नहीं इस्तमाल में आता बल्कि दुसरे कामों में जैसे Bitcoin को एक wallet से दुसरे wallet में भेजने में इसका योगदान है, इसलिए last Bitcoin के Mine होने के बाद भी Bitcoin mining चलती रहेगी.

बिटकॉइन माइनिंग कैसे करते है|

Mining Software से हम bitcoin के transaction को process करते है तथा उसे confirm भी किया जाता है. ये Miners इसलिए काम करते हैं क्यूंकि वे अगर इस Transaction को complete कर दें तो उन्हें users से Transaction Fees मिलती है जल्द Transaction Processing के लिए.
एक नयी Transaction को confirm होने के लिए उन्हें एक block में सामिल करना पड़ता है और उसके साथ एक Mathematical Proof Of Work भी देना पड़ता है. इस प्रकार के proof को generate करना बहुत ही difficult है क्यूंकि इसे generate करने का एक ही तरीका है जिसमे आपके system को Billions of Calculation per Second लग जाता है उस Transaction को confirm करने के लिए.

इसके लिए Miners को चाहिए की वो ये सभी Calculation उनके Block network के द्वरा accept होने के पहले ही कर लें, ताकि उन्हें अपने काम के लिए सही वक़्त में पुरस्कृत किया जा सके. जैसे जैसे ज्यादा Miners नेटवर्क में जुड़ेंगे mine करने के लिए तब valid Block को खोजने का तरीका और भी कठिन हो जाता है और इसे और कोई नहीं बल्कि नेटवर्क ही करता है ताकि Average Time Block को खोजने का 10 Mins ही रह सके.
इसी कारण Bitcoin mining एक competitive business बन गया है जहाँ किसी एक miner के हाथ में कण्ट्रोल नहीं है.
Bitcoin miners कभी भी ठग नहीं सकते अपने फीस और reward बढाकर या कोई नकली transaction को प्रोसेस कर, ऐसा इसलिए क्यूंकि अगर कोई ऐसा करना चाहे तब ये Bitcoin Network को corrupt कर देगा, और Bitcoin Nodes reject कर देती है ऐसे Block जिसमे invalid डाटा हो. इसी कारन Bitcoin Network secure होता है यद्यपि इसमें Bitcoin miners ठग निकले तब भी.

बिटकॉइन माइनिंग एनर्जी का वेस्ट है?

किसी दुसरे Payment Service की तरह ही Bitcoin के processing में भी कुछ service cost तो आएगा ही. देखा जाये तो आज के दोर के Payment Service जैसे Banks, Credit Card इत्यादि बहुत ही ज्यादा service cost की डिमांड करते हैं. और इसमें जो शक्ति खर्च होती है वो transparent नहीं है और उसे मापा भी नहीं जा सकता जैसे की Bitcoin के क्षेत्र में होता है.

Bitcoin mining को इसप्रकार से design किया गया है जहाँ की समय के साथ आजकल Specialized Hardware आ चुके हैं जो की कम शक्ति का इस्तमाल करते हैं, लेकिन Bitcoin mining की cost हमेशा proportional होती है डिमांड के अनुसार. अभी नयी research चल रही है की कैसे इस mining शक्ति को कम से कम किया जाये जिससे एक Energy Efficient Bitcoin Mining System बनाया जा सके.

बिटकॉइन माइनिंग को कैसे सुरक्षित रखता है?

खुदाई के द्वारा एक प्रतिस्पर्धी लॉटरी के जैसे मॉडल बनता है जिससे की ये नामुमकिन की है किसी के पक्ष में की वो लगातार नए transaction के Blocks जोड़ सके प्रतिस्पर्धी लॉटरी में. ऐसा करने से ये Bitcoin के लेन देन को ज्यादा सुरक्षित बनता है जिससे किसी एक के पास Block के कुछ transaction को control करने की शक्ति नहीं आती.
इसके द्वारा कोई व्यक्ति ब्लॉक चाइन में कुछ हेर फेर नहीं कर सकता या अपना किया हुआ Transaction roll back भी नहीं कर सकता. Mining की बदौलत किसी Transaction को reverse नहीं किया जा सकता जिससे Bitcoin ज्यादा सुरक्षित रहता है

SHARE